Thyroid क्या है – थायराइड के लक्षण, कारण, और घरेलू उपाय- Thyroid in hindi

thyroid treatment in hindi

दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम आपके साथ शेयर कर रहे है थायरॉइड से जुडी कुछ बातें। जैसी की थायरॉइड क्या होता है?, थायरॉइड के लक्षण क्या है? (symptom of thyroid in hindi) इसके कारण क्या है? इसके साथ ही हम आपको बताएंगे थायरॉइड का रामबाण इलाज (home remedies for thyroid) इन घरेलू उपचार से आप थायरॉइड से निजात पा सकते है।


थायरॉइड क्या है? (What is thyroid?)

थायरॉइड हमारे गले के निचले हिस्से में स्थित एक endocrine gland है। यह T3 और T4 (Thyroxine) नामक hormones बनाती है जो कि metabolism, growth, body temperature, बच्चों में दिमाग का विकास, और शरीर के बहुत से vital functions को control करते हैं। इन hormones का लेवल कम या ज्यादा होने पर thyroid problem होती है।

इस article में हम thyroid problem से जुड़े कारण, लक्षण और उनके घरेलू निदान/उपचार (home remedies for thyroid) की जानकारी देंगे। Thyroid problem आधुनिक युग में बहुत आम हो चुकी है लेकिन लगभग 60% cases में लोगों को यह पता ही नहीं लगता कि उन्हें यह problem है। इसलिए यह जानकारी सबके लिए लाभकारी होगी।

Thyroid के function को pituitary gland TSH (Thyroid Stimulating Hormone) के माध्यम से control/नियंत्रित करती है। High TSH value hypothyroidism की तरफ इशारा करती है जबकि low TSH value hyperthyroidism की तरफ। Hypothyroidism ज्यादा common disorder है।

थायरॉइड के प्रकार (Types of Thyroid in Hindi)

थायरॉइड दो प्रकार का होता हैं। 

1. हाइपोथायरायडिज्म (Hypothyroidism) – जब थायरॉयड ग्रंथि जरूरत से कम मात्रा में हार्मोंस का निर्माण करती है।

2. हाइपरथायरॉइडज्म (Hyperthyroidism) – जब थायरॉयड ग्रंथि जरूरत से ज्यादा हार्मोंस का निर्माण करती है।

थायरॉइड की समस्या क्यों होती है? (Reasons for thyroid problem)

थायरॉइड की problem को hypothyroidism और hyperthyroidism में categorize किया जाता है। यदि हमें इसके कारणों का पता हो तो हम काफी हद तक अपना बचाव कर सकते हैं।

Reasons for hyperthyroidism:-

• Thyroid supplements की ओवरडोज
• Auto-immune disorder जैसे कि Graves disease
• Goiterogenic खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन। कुछ ऐसे foods होते हैं जिनका बहुतायत में प्रयोग thyroid gland की एक्टिविटी को enhance करता है जैसे पत्तागोभी, फूलगोभी, सोयाबीन, kale
• Family history
• During and after pregnancy

Reasons for hypothyroidism:-

• Iodine deficiency
• Overdose of anti thyroid medicines
• Hashimoto’s Thyroiditis (इसमें हमारा शरीर कुछ antibodies बनाता है जो thyroid gland को damage करने लगती हैं)
• Congenital hypothyroidism जिसमें जन्म से ही thyroid function impaired होता है। eg डाउन सिंड्रोम के साथ पैदा हुए बच्चे
• Stress
• Injury या surgery में thyroid का removal
• During and after pregnancy

इन सबके अलावा pituitary gland का विकार भी thyroid problems का reason हो सकता है।

थायरॉइड प्रॉब्लम के लक्षण (Symptoms of thyroid problem)

थायरॉइड के लक्षणों के बारे में पूरी जानकारी होना जरूरी है ताकि समय रहते जाँच और इलाज कराया जा सके और suffering minimize हो सके।

Hyperthyroidism:-

इस condition में T3 और T4 hormones का लेवल बढ़ जाता है और TSH का लेवल कम हो जाता है। Metabolism की गति (भोजन को ऊर्जा में बदलना) बढ़ जाती है। इस वजह से भूख बहुत लगने के बाद भी वज़न कम होता जाता है। कुछ अन्य प्रमुख लक्षण निम्न हैं:

• Heart rate का बढ़ना (tachycardia)
अत्यधिक गर्मी लगना और पसीना आना
घबराहट, बेचैनी, चिड़चिड़ापन
अनिद्रा (insomnia)
• Diarrhoea
शरीर में calcium की कमी
महिलाओं में माहवारी की अनियमितता जैसे less menstrual bleeding or amenorrhea
• Males में breast enlargement
• Systolic bp का बढ़ना (diastolic bp normal रहता है)
• Advance stages में eyes की bulging और thyroid acropachy (नाखूनों का curv हो जाना और fingertips की सूजन)

Hypothyroidism:-

इस condition में T3 और T4 का लेवल कम हो जाता है और TSH बढ़ जाता है। Thyroid gland में सूजन जाती है। Metabolism कम होने के कारण भूख कम लगती है पर वज़न बढ़ने लगता है। अन्य प्रमुख लक्षण हैं:

• Heart rate का कम होना (bradycardia)
अत्यधिक ठंड महसूस करना
• Infertility
• Excessive menstrual bleeding and bleeding between two cycles
• Constipation
• High cholesterol level
• Hair fall
याददाश्त कमजोर होना
आवाज़ का बदलना या भारी होना
• Lack of concentration
त्वचा का रूखापन
थकान 

थायरॉइड की जाँच (Thyroid function tests)

थायरॉइड gland के फंक्शन की जाँच bood test से की जाती है। इसमें overnight fasting की जरूरत नहीं होती लेकिन आपके चिकित्सक आपकी medical conditions, pregnancy, medications, etc. को ध्यान मे रखते हुए कुछ different instructions दे सकते हैं। यह test 300-500 रूपयों में हो जाता है और रिपोर्ट 24 घंटे के अंदर मिल जाती है। Blood test के अलावा लक्षणों और जरूरत के आधार पर ultrasound, antibody test या radioactive scan जैसे कुछ advance test भी कराए जा सकते हैं।

थायरॉइड कितना होना चाहिए? (what is a normal tsh level?)

थायरॉइड का सामान्य स्तर 0.4 से 5 milliunits per liter (mIU/L) होता है। यदि खून में टीएसएच का स्तर इससे अधिक है तो अंडरएक्टिव थायरॉइड हो सकता है।

थायरॉइड के घरेलू उपचार (Home remedies for thyroid)

यहाँ कुछ सरल घरेलू उपाय दिए गए हैं जिनके माध्यम से thyroid problem पर नियंत्रण किया जा सकता है।

1. एक चम्मच coriander seeds को कूट कर एक गिलास पानी में रातभर भिगो दें। सुबह इसे धीमी आँच पर आधा रह जाने तक उबालें और छान लें। इसका सेवन खाली पेट तीन महीने तक करें।

2. गेहूँ, बाजरे और ज्वार के आटे को 5:1:1 के अनुपात में मिला लें। इस मिश्रण की रोटी का सेवन करें।

3. थायरॉइड की समस्या में हड्डियाँ भी कमजोर हो जाती हैं इसलिए सुबह 20-30 मिनट धूप लेना चाहिए

4. नारियल के तेल और गिरी का सेवन करें। यह metabolism को बढ़ाता है और body temperature को maintain करता है।

5. गले पर walnut oil से massage और अश्वगंधा का paste लगाने से भी लाभ मिलता है।

6. बादाम में selenium और magnesium नामक minerals होते हैं जो thyroid gland के function को ठीक रखते हैं।

 

थायरॉइड रोग में क्या खाएं (Diet for Thyroid Gland Disorders)

एक स्वस्थ जीवन शैली निरोगी शरीर का आधार होती है। आज के इस भागदौड़ के वातावरण में हम चाहते हुए भी बहुत सी बीमारियों को invite कर लेते हैं। फिर भी कुछ आसान उपाय हैं जिन्हें अपनाकर हम thyroid gland के function को maintain कर सकते हैं।

1. Fat and sugar का प्रयोग कम करें।

2. यदि आप मांसाहार लेते हैं तो sea food को अपने आहार में अवश्य शामिल करें। Sea food में iodine प्रचुर मात्रा में होता है।

3. शाकाहारियों के लिए साबुत अनाज, seaweed और dairy products अच्छे विकल्प है

4. Junk and packed food से दोस्ती बढ़ाएं।

5. यदि anemia है तो आयरन वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें या डॉक्टर की सलाह से iron supplements लें।

6. ऊपर बताए गए goiterogenic foods का इस्तेमाल कम से कम करें और इन्हें अच्छी तरह पकाकर ही खाएं।

7. सेंधा नमक का प्रयोग करें। आयोडीन युक्त नमक में synthetic iodine मिलाया जाता है जबकि सेंधा नमक में iodine प्राकृतिक रूप से मौजूद रहता है।

8. 15-30 मिनट उज्जाई प्राणायाम, सिंहासन, टंक विद्या जैसे योगाभ्यास करें।

9. तनाव मुक्त रहने का प्रयास करें।

10. धूम्रपान और alcohol को अलविदा कहें।

योगासन से थायरॉइड का उपचार (Yoga for Thyroid Disease)

थायरॉइड को कम करने लिए कुछ योग आसन भी फायदेमंद साबित हुए हैं जैसे :-

1. नियमित रूप से प्राणायाम एवं ध्यान करें।

2. सूर्य नमस्कार करें।

3. पवनमुक्तासन करें।

4. सर्वांगासन करें।

5. उष्ट्रासन करें।

6. हलासन करें।

7. मत्स्यासन करें।

8. भुजंगासन करें।


हमने इस आर्टिकल के माध्यम से आप तक सरल भाषा में सही जानकारी पँहुचाने का प्रयास किया है। घरेलू उपचार निश्चित रूप से कारगर होते हैं पर किसी भी उपाय को अमल में लाने से पहले अपने doctor से परामर्श अवश्य करें। साथ ही regular health checkup भी अवश्य कराऐं। यह लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं। आपकी बहुमूल्य राय एवं सुझावों का स्वागत है। इस लेख को अधिक से अधिक share करें ताकि अन्य लोग भी लाभ उठा सकें।

Article by:-
Nidhi Neer
Lifewingz.com

Image credit:-  canva

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.