Beti Par Kavita – चिड़िया जैसी होती हैं बेटियां

beti par kavita

आज हम बेटी पर लिखी कविता (beti par kavita) आपके लिए लेकर आए है यह एक new poem in hindi है जिसका नाम “चिड़िया जैसी होती हैं बेटियां” है यह hindi kavita मिनाक्षी कुंडू जी ने लिखी है उन्होंने इस कविता में बेटियों के जीवन का बहुत सुन्दर वर्णन किया है। उम्मीद करते है आपको यह daughter poem पसंद आएगी। 

चिड़िया जैसी होती हैं बेटियां
इक दिन वो उड़ जाती हैं..

जिस घर में जन्म लेती हैं
उम्र भर वहाँ नहीं रह पाती हैं
जो अपना है वो छोड़कर
पराया अपनाती हैं

चिड़िया जैसी होती है बेटियां 
इक दिन वो उड़ जाती हैं… 

छुट्टियों में जब घर आती हैं
एक कोने में बैग टिकाती हैं
मेहमान बनकर फिर आती हैं 
घर सूना कर जाती हैं

 चिड़िया जैसी होती है बेटियां
इक दिन वो उड़ जाती है…. 

 तीज त्योहारों की बाट जोहती 
मिलकर सबसे, खुश हो जाती हैं
 शगुन में मिले पैसे सहेजती 
कितना ही बेशक कमाती हैं

 चिड़िया जैसी होती है बेटियां
इक दिन वो उड़ जाती हैं… 

 किसी के घर का फूल है लेकिन
किसी और की बगिया सजाती हैं
अपनों के सुख-दुख भूलकर सारे
 नए घर के रिवाज निभाती हैं

 चिड़िया जैसी होती हैं बेटियां
इक दिन वो उड़ जाती हैं!!


दोस्तों, कैसी लगी आपको हमारी आज की best hindi kavita हमे comment करके जरूर बताएं। ऐसी ही और हिंदी की कविता पढ़ने के लिए lifewingz.com को follow करना न भूले।
धन्यवाद!

By:- Minaxi kundu
Image credit:- Canva

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.