बाल मजदूरी बोझ है बचपन पर ! Child Labour Poems in Hindi

child-labour-poem

दोस्तों, हम हर साल 1 मई को मजदूर दिवस ( Labour Day ) मनाते हैं,आज की हमारी हिंदी कविता मजदूर पर है, child labour poems in hindi में बताया गया है कि एक मजदूर बच्चा अपना जीवन किसी तरह जीता है !

वो बचपन के दिन कितने अच्छे थे

ना कोई परेशानी थी ना कोई दिक्कत

एक हम है जहां हमे खूब प्यार मिलता

खूब खिलौने मिलते,child labour poems in hindi

एक वो है

जो सारा दिन काम करता 

और रात को थक कर सो जाता 

बिना किसी शिकायत के

अपनीchild labour poems in hindiजिंदगी जीता रहता,

उसका भी तो हक है

पढ़ाई पर

लेकिन हम अपनी खुदगर्जी में

इतने खोए,

हर एक चीज़ से उसका

हिसा हमेशा के लिए छीन लिया

जहा हम छोटी सी चोट लगने पर दहाड़े मार कर रोते थे

वो अपने पैरो के छलो को छुपा कर काम करता, child labour poems in hindi

क्या हम में और उसमे बहुत फ़र्क है

नहीं बस हमारी सोच का फ़र्क है,

नीची जात का वो नहींchild labour poems in hindi

हमारी सोच है

सोच बदलो सब बदल जाएगा,

हर बच्चाchild labour poems in hindiएक सा ही नज़र आएगा

उसे भी हक है जीने का

जियो और जीने दो 

हर इच्छा को पूरा होने दो ! child labour poems in hindi

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। 


ये भी पढ़ें:-

1)  शहीद वीरों को सलाम – Indian Soldier Poem in Hindi

2) हमे नया कल बनाना है ! Motivational Poem

3)  बेगाना अपना कहलाएगा – a poem in Hindi on life & relationships

4)  समय ( Samay ) – Importance of Time ( Hindi Poem )     


by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )  
Story and Poem Writer

दोस्तों, आपको “बाल मजदूरी बोझ है बचपन पर !” कैसी लगी? आप अपने comments के माध्यम से हमें बता सकते है! ऐसी ही अन्य Hindi poem, article, motivational story, quotes, thoughts,  या inspire poem इत्यादि पढ़ने के लिए हमें subscribe ज़रूर करें!

धन्यवाद !

image credit –freepik.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.