Skip to content

Digital Currency: डिजिटल करेंसी/मुद्रा क्या है, फायदे, नुकसान 2024

Digital Currency

Digital Currency in Hindi: क्या आप जानते है, Digital Currency क्या है? अगर नहीं तो आज के इस लेख में हम डिजिटल करेंसी के बारे में जानेंगे। ये लेख उन लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो Digital Currency से परिचित नहीं हैं, डिजिटल करेंसी, पैसों का एक रूप है जिसे इलेक्ट्रॉनिक रूप से संग्रहीत किया जाता है। भारत में जब 8 नवंबर 2016 में नोटबंदी हुई थी, उस समय लोगों को बहुत परेशानी हुई थी। क्योंकि उस समय नए नोट बहुत कम थे और जिन लोगों को इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल करेंसी का पता था, उन लोगों ने उस समय ज्यादातर लेन देन इसके द्वारा ही किया था।

Read Also: ChatGPT kya hai ? ChatGPT क्यों ट्रेंड हो रहा है?

डिजिटल करेंसी क्या है? – What is Digital Currency in Hindi

डिजिटल करेंसी का पूरा नाम “central bank digital currency” है, इसे ई-मुद्रा भी कहा जा सकता है। इसे 2009 में लॉन्‍च किया गया था और इसे डिजिटल करेंसी, वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency) के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यह कागजी नोटों की तरह नहीं है और इसे केवल कंप्यूटर, लैपटॉप, स्मार्टफोन पर ही देखा जा सकता है। इसका उपयोग और भुगतान क्रिप्टोग्राफी (Cryptography) के माध्यम से किया जाता है, इसे “क्रिप्टो मनी” (Crypto currency) के रूप में भी जाना जाता है। दुनिया की पहली क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन (Bitcoin) है। इसे दुनिया में किसी भी स्थान पर आसानी से ट्रांसफर किया जा सकता है। इसे डॉलर, यूरो, रुपये आदि जैसी किसी भी करेंसी में कनवर्ट किया जा सकता है।  

डिजिटल करेंसी को आप डिजिटल रुपया भी कह सकते हैं। डिजिटल करेंसी दो तरह की होती है-रिटेल (Retail) और होलसेल (Wholesale)। रिटेल डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल आम लोग और कंपनियां करती हैं। होलसेल डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल वित्तीय संस्थाओं द्वारा किया जाता है।

डिजिटल करेंसी के प्रकार – Digital Currency Types


डिजिटल करेंसी तीन प्रकार की होती हैं जैसे:

1. सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (Central Bank Digital Currency)

2. वर्चुअल करेंसी (Virtual Currency)

3. क्रिप्टो करेंसी (Crypto currency)

डिजिटल करेंसी के फायदे एवं विशेषताएं – Advantages of Digital Currency


– देश की सरकार डिजिटल करेंसी को मान्यता देगी।

– डिजिटल करेंसी आने के बाद लोगों की नकदी (cash) पर निर्भरता कम होगी। लोगों को अपने पास कैश रखने की जरूरत कम हो जाएगी, या रखने की जरूरत ही नहीं होगी। 

– डिजिटल करेंसी को लोग अपने मोबाइल वॉलेट (mobile wallet) में रख सकेंगे और कभी भी कहीं भी डिजिटल करेंसी से लेन-देन भी कर सकेंगे।

– डिजिटल करेंसी के आने से fake currency की समस्या से छुटकारा मिलेगा। 

– डिजिटल करेंसी के आने से कागज के नोट की प्रिटिंग का खर्च बचेगा। 

– डिजिटल करेंसी जारी होने के बाद हमेशा बनी रहेगी और यह कभी खराब नहीं होगी। 

– डिजिटल करेंसी के आने से लोगों को बैंक में देश के बाहर या फिर देश में ही पैसे ट्रांसफर करने के लिए या फिर जमा कराने के लिए अलग-अलग समय का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। 

– देश के केंद्रीय बैंक की balance sheet में डिजिटल करेंसी शामिल की जाएगी।

डिजिटल करेंसी से नुकसान – Disadvantages of Digital Currency


हम सभी मानते हैं कि नई चीजों के फायदे हैं, लेकिन उनके नुकसान भी हैं जिन पर विचार किया जाना चाहिए। इसी तरह, भले ही डिजिटल पैसा देश के लिए एक जबरदस्त लाभकारी विकास साबित हो, लेकिन इसके कुछ नकारात्मक पहलू भी होंगे। उदाहरण के लिए, डिजिटल करेंसी से कुछ ऐसे नुकसान हो सकते हैं।

– डिजिटल करेंसी के आगमन के बाद से, बैंकों में कर्मचारियों को काफी नुकसान हो सकता है। 

– डिजिटल करेंसी को हैकर्स (hackers) ऑनलाइन वॉलेट (online wallet) से चुरा सकते हैं या डिजिटल करेंसी के लिए प्रोटोकॉल बदल सकते हैं। जिससे वे अनुपयोगी हो सकते हैं।

– हालांकि, डिजिटल करेंसी से कोई बड़ा नुकसान नहीं होगा, लेकिन बैंकिंग उद्योग में काम करने वाले व्यक्तियों के लिए थोड़ी समस्या का विषय बन सकता है।

– हालाँकि, डिजिटल करेंसी बहुत लाभ प्रदान करती है, साथ ही इसमें कुछ कमियाँ भी हैं। इसका सबसे चिंताजनक पहलू यह है कि यह पैसे का दुरुपयोग करने का प्रयास करने वाले आपराधिक समूहों (criminal groups) को उजागर कर सकता है।

डिजिटल करेंसी का उपयोग कैसे करें – How to use Digital Currency in India


भारत में आने वाले डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल उसी तरह किया जाएगा, जिस तरह दुनिया भर में लोकप्रिय crypto currency और  bitcoin का इस्तेमाल किया जाता है। फर्क सिर्फ इतना होगा कि digital currency सरकारी करेंसी होगी। इस पर सरकार यानी कानून की मुहर लगेगी। डिजिटल करेंसी का उपयोग कैसे करें, इस पर भारतीय रिजर्व बैंक निर्देश देगा। भारतीय रिजर्व बैंक blockchain और अन्य तकनीक का उपयोग करके डिजिटल करेंसी जारी करेगा।

डिजिटल करेंसी वे धन हैं जिनका केवल electronic रूप से आदान-प्रदान किया जा सकता है। उनके पास कोई भौतिक रूप नहीं है, लेकिन उन्हें साधारण करेंसी या अन्य संपत्तियों के लिए कारोबार किया जा सकता है। हालांकि bitcoin, crypto currency जैसी सबसे लोकप्रिय digital currencies हैं।


डिजिटल करेंसी क्या है, जैसा कि इस लेख में परिभाषित किया गया है? आपको डिजिटल करेंसी के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी इस लेख से मिल गई होगी। अगर इस पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया हो, तो कृपया इस लेख को अपने दोस्तों के साथ साझा करें, धन्यवाद।

By:- Shakti
Image Credit:- Canva

Author

  • Lifewingz

    Lifewingz.com भारत की एक ऑनलाइन पत्रिका है। जो स्वास्थ्य, फिटनेस, योग, प्रेरक लेख, जीवन शैली लेख, रोचक तथ्य, आध्यात्मिक दर्शन,धार्मिक और मनोरंजन की हिंदी भाषा में जानकारी प्रदान करता है। हमने समृद्ध और सदाबहार विषय देने पर ध्यान केंद्रित किया जो हिंदी रीडर के लिए उपयोगी हो। हमारा उद्देश्य सरल हिंदी और सामान्य शब्दों में आवश्यक जानकारी प्रदान करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *