दोस्तों, आज की mythology story में हमने लिखी है दुर्गा माँ की कहानी ( durga maa story ) इस धार्मिक कथा में mahishasur ka vadh बताया है कि किस तरह से mata durga ने देवताओं को पापी महिषासुर से बचाया था। आपने बहुत सी mata ki kahani सुनी होगी। लेकिन आपने यह कहानी ना तो सुनी होगी और न ही पढ़ी होगी।

 

माता की कथा – Mata ki katha 

पौराणिक कथाओं के अनुसार एक समय की बात है रम्भा और करम्भा नाम के दो भाई हुआ करते थे। जिन्होंने शक्तियों को प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी।

उनकी तपस्या देखकर इंद्र को अपने राज-पाठ छीनने का खतरा महसूस हुआ और फिर इंद्र ने कुछ देवताओं के साथ मिलकर एक भाई को मार डाला। जिसका नाम करम्भा था।

रम्भा को जब अपने भाई करम्भा के मरने की खबर मिली, तो वह बहुत क्रोदित हुआ। इससे रम्भा में बदले की आग लग गई और इसलिए वह अपनी तपस्या में और कठोर हो गया। 

उसने अपनी उपासना से कई देवताओं को खुश किया और उन्होंने उसे वरदान भी दिया, कि वह बहुत शक्तिशाली हो और वह किसी से पराजित नहीं हो सकता, न तो देवताओं से और न ही राक्षसों से।

एक बार रम्भा ने एक मादा भैंस को देखा और रम्भा ने उसके साथ संभोग किया। इसी बीच एक नर भैंस आया और रम्भा की हत्या कर दी। दुखद की बात यह थी कि रम्भा ने किसी जानवर से सुरक्षित होने का वरदान नहीं लिया था।


 { जानना चाहते हो पुराने मंदिरों के बारे में :- अनोखे मंदिरों की अविश्वसनीय और रहस्यमय तथ्यों की कहानी Mysterious Temples }


इस घटना ने मादा भैंस गर्भवती होगी और उसने आग में कूद कर आत्महत्या कर ली। जिस क्षण वह आग में कूदी, उसी समय आग से आधा भैंस और आधा मानव बाहर आया। जिसका नाम महिषासुर पड़ा।

महिषासुर ने देवताओं और दैत्यों को पराजित किया। उसने देवलोक पर हमला कर उस पर कब्जा कर लिया और सभी देवताओं को बाहर निकाल दिया। 

सभी देवता ब्रह्मा जी के पास गए, ब्रह्मा जी उन सब को विष्णु जी और शिव जी से मिलवाया। देवताओं ने विनाशकारी महिषासुर द्वारा उनके ऊपर किया गया अत्याचार बताया। जिसे सुनकर त्रिमूर्ति को बहुत क्रोध आया। 

 

इसके बाद त्रिमूर्ति की आंखों से ऊर्जा प्रकट हुई, जो एक नारी का रूप बनी। सभी देवता उस शक्ति को देखकर प्रसन्न हुए और सभी ने उस शक्ति को माँ कहकर माना। इस तरह माँ दुर्गा की उत्पत्ति हुई।

भगवान शंकर जी ने देवी को त्रिशूल भेंट किया, भगवान विष्णु ने अपना चक्र निकाल कर देवी को दिया, वरुण ने देवी को शंख भेंट किया, अग्नि ने इसे शक्ति दी, वायु ने उसे धनुष और बाण दिए, देवराज इंद्र ने अपना वज्र दिया और ऐरावत हाथी ने अपना घण्टा उतारकर देवी को भेंट किया। 

यमराज ने उसे कालदंड में से एक दंड दिया, वरुण ने उसे पाश दिया, प्रजापति ने स्फटिक की माला दी और ब्रह्मा जी ने उसे कमण्डलु दिया, सूर्य ने देवी के समस्त रोमों में अपनी किरणों का तेज भर दिया, इसी तरह दूसरे देवताओं ने भी माता को आभूषण और अस्त्र देकर सम्मान किया। 

अंत में, पहाड़ों के देवता हिमालय ने उन्हें सवारी करने के लिए एक बाघ दिया और उनका नाम महादेवी दुर्गा रखा गया।

 

उनके आशीर्वाद से, दुर्गा ने बाघ पर चढ़ाई की और महिषासुर का विनाश करने के लिए निकल पड़ी।

जब माँ दुर्गा अमरावती के पास पहुंची, तो उन्होंने एक शक्तिशाली गर्जना की, जिसने पहाड़ों को हिला दिया और समुद्र में विशाल लहरें पैदा कीं। महिषासुर ने अपने सैनिकों को यह पता लगाने के लिए कहा कि क्या हो रहा है।

जब उसने सुना कि एक महिला उसे चुनौती दे रही है, तो वह हँसा और उसने कहा, ‘उससे कहो कि मैं उससे शादी करके खुश रहूँगा।’

 

जब उनके दूत प्रस्ताव लेकर देवी के पास गए, तो देवी ने उत्तर दिया अपने राजा से कहो कि मैं कोई साधारण महिला नहीं हूं जो उससे शादी करने के लिए उत्सुक हो। 

मैं महादेवी हूं और मेरे पति महादेव हैं। मैं उन्हें अमरावती छोड़ने और दुनिया के नीचे अपनी जगह पर लौटने के लिए कहने के लिए आई हूं। अगर वह नहीं गया, तो मैं उसे नष्ट कर दूंगी। 

जब दूत ने आकर महिषासुर को सारी बात बताई तो, महिषासुर क्रोधित हो गया। उनके प्रमुख योद्धाओं ने घमंड से कहा, महाराज हम जाएंगे और इस मूर्ख महिला को ठीक करेंगे। 

 

महादेवी से युद्ध करने के लिए असुर निकल पड़े। उनके विस्मय और आतंक के कारण, एक के बाद एक घमंडी योद्धा समाप्त हो गए।

राक्षस राजा को खबर मिली और वह और भी उग्र हो गया। कायर और कमजोर, वे एक मात्र महिला के साथ खड़े नहीं हो सकते थे। मैं इस मनहूस महिला को मार डालूँगा।

महिषासुर ने असुरों की सेना के साथ देवी पर हमला किया। लेकिन दुर्गा ने तुरंत वापस लड़ने के लिए अपनी सांस से सैनिकों की एक विशाल टुकड़ी बनाई। महिषासुर ने उन सभी चालों को आजमाया जो वह जानता था। 

 

वह देवी को भ्रमित करने के लिए आकार बदलता रहा। एक आदमी से वह एक शेर बन गया, फिर एक हाथी। लेकिन हर बार, महादेवी ने उसे अपने हथियारों से गंभीर रूप से घायल कर दिया।

नौ दिनों तक युद्ध चला। अंत में देवी ने असुर को मार डाला, जिसने फिर से एक विशाल भैंस का रूप ले लिया था। देवी ने उस चक्र से वार किया जो विष्णु ने उसे दिया था।

इस प्रकार उसने महिषासुर के अत्याचार से दुनिया को मुक्त कर दिया। इंद्र और अन्य देवता फिर से स्वर्ग लौट आए, और सब ठीक हो गया। तब से, नवरात्रों के दौरान दुर्गा की पूजा की जाती है और उन्हें महिषासुर मर्दिनी कहा जाता है।

 


पढ़ें धार्मिक कथाएँ:-

Somvar vrat katha – सोमवार व्रत कथा

एक सूफी संत से जुड़ा है स्वर्ण मंदिर का रोमांचक इतिहास – Golden temple in amritsar

भगवान शिव के गले मे मुंड माला से जुड़े इस रहस्य को जानकर आप हो जाएँगे हैरान


 

आज की mythology story in hindi आपको कैसे लगी comment box पर message करके हमे जरूर बताएं। दोस्तों, जो लोग story of maa durga पढ़ते या सुनते है, माता रानी उनके दुःख दूर करती है। बहुत से लोग hindu gods story पढना पसन्द करते है। आप इस durga maa story को अपने दोस्तों के साथ share जरूर करें। ताकि उन पर भी माता की कृपा हो जाए।

 

Image credit:- Canva 

Written by:- Meenakshi