Funny story in hindi – ऋषि मुनि के अनोखे विद्यार्थी हिंदी की कहानी

funny story in hindi

आज आपके लिए लेकर आए हैं, funny story in hindi। ऋषि मुनि के अनोखे विद्यार्थी यह hindi kahani बहुत ही मज़ेदार है यह कहानी bachon ki kahani in hindi है

 

क समय की बात है एक गांव में एक ऋषि रहा करते थे उन्होंने अपना एक छोटा सा गुरुकुल बनाया हुआ था। जिसमें वह अपने विद्यार्थियों को शिक्षा दिया करते थे।

धीरे-धीरे उनके पास बहुत सारे विद्यार्थी इकट्ठे हो गए, एक बार ऋषि अपने सारे विद्यार्थियों को बैलगाड़ी में लेकर घूमने के लिए गए, बूढ़े होने के कारण ऋषि बहुत जल्दी थक गए और उन्होंने अपने विद्यार्थियों से कहा:-

“ बच्चों मुझे बहुत थकान हो रही है मैं थोड़ी देर आराम करना चाहता हूं, तुम लोग इस बात का ध्यान रखना कि हमारी बैलगाड़ी से कोई भी सामान नीचे ना गिर जाए और सावधानी से बैठना।”

सभी विद्यार्थी एक साथ बोले:- “आप बिल्कुल भी चिंता ना करें गुरु जी आप आराम से सो जाएं हम ध्यान रखेंगे।”

 

थोड़ी देर के बाद बैलगाड़ी एक पत्थर के ऊपर आ गई जिससे बैलगाड़ी बहुत जोर से हिलने लगी, और ऋषि का पवित्र पानी रखने वाला मटका बैल गाड़ी से नीचे गिर गया। सभी विद्यार्थियों ने उसे गिरते हुए देखा, थोड़ी देर के बाद ऋषि जाग गए और उन्होंने बच्चों से पूछा:- “मेरे प्यारे विद्यार्थियों बताओ सब कुछ कैसा है सब कुछ ठीक और सुरक्षित है ना।”

विद्यार्थी बोले:- “हां गुरुजी सब ठीक है केवल आपकी पवित्र पानी रखने वाला बर्तन बैल गाड़ी से नीचे गिर गया।”

ऋषि को बहुत गुस्सा आया और उन्होंने कहा क्या बर्तन नीचे गिर गया अब मैं पानी कहा से पियूंगा।

इतने में एक विद्यार्थी बोला:- “ गुरु जी आपने तो हमें सिखाया है कि हम सिर्फ आपकी बात का पालन करें आपने हमें बैलगाड़ी इसमें सब कुछ सुरक्षित है या नहीं, या वहां क्या हो रहा है, यह देखने को कहा उसे उठाने को नहीं कहा इसलिए हम सिर्फ उसे देखते रहे।”

 

ऋषि बोले:- “अरे मूर्खों देखते रहने का मतलब होता है कि अगर कोई चीज गिर रही है, तो उसका ध्यान रखना है और उसे उठाकर वापस रख लेना है अगली बार कभी ऐसा होता है तो इस बात का ध्यान रखना, दोबारा ऐसी गलती नहीं होनी चाहिए समझ गए” सभी विद्यार्थियों ने हां में सर हिला दिया।

बैल गाड़ी चलती रही और ऋषि को फिर नींद आ गई अचानक बैलगाड़ी के बैलों ने चलते चलते गोबर कर दिया, यह देखते ही विद्यार्थी गाड़ी से नीचे उतर गए और गोबर का एक गोला बनाकर वापस बैलगाड़ी के ऊपर फेंक दिया।

गोबर का गोला सीधे ऋषि के मुंह पर गिरा और ऋषि घबराकर उठ गए, और घबरा कर बोले यह सब क्या हो रहा है और अपने मुंह पर पड़े हुए गोबर की बदबू से बुरी तरह परेशान हो अपनी किस्मत को कोसने लगे।

 

विद्यार्थियों ने कहा:- गुरुजी आपने ही तो कहा था बैल गाड़ी से नीचे गिरने वाली किसी भी चीज को तुरंत उठाकर वापस रख देना है। इसीलिए हमने इस गोबर को तुरंत बैलगाड़ी में वापस रख दिया है।

ऋषि परेशान होकर बोले:- तुम साधारण चीजों को भी क्यों नहीं समझते हो।

फिर कुछ देर चुप रहने के बाद उन्हें एक बहुत अच्छा उपाय आया उन्होंने बच्चों को एक लिस्ट बना कर दी जिसमें लिखा था क्या-क्या चीजें गिरने पर उठा कर रखनी है और क्या नहीं, यह लिस्ट बच्चों को देकर वे आराम से सो गए, बच्चों को भी नींद आ रही थी।

 

अब बैलगाड़ी पहाड़ के ऊपर चल रही थी। जब वह ढलान के ऊपर से गुजर रही थी। तो अचानक सोते हुए ऋषि बैल गाड़ी से नीचे गिर गए और लुढ़कते हुए सड़क के किनारे एक छोटी सी नहर में गिर गए।

ऋषि जोर-जोर से मदद के लिए चिल्लाने लगे। लेकिन बच्चे उन्हें उठाने के बदले लिस्ट को देखने लगे जिसमें ऋषि ने उन चीजों का नाम लिखा था जो गिर जाए और उन्हें उठाकर वापस बैलगाड़ी में रखना है, और उसमें ऋषि का नाम नहीं था।

ऋषि जोर से चिल्लाए :- “मुझे बचाओ मैं डूब रहा हूं” बच्चे अपने गुरु को बहुत प्यार करते थे। वह तुरंत ही गाड़ी से नीचे आए और उन्होंने अपने गुरु को बचा लिया।

 

ऋषि गुस्से में बोले “मुझे गिरता देखकर तुमने मुझे बचाया क्यों नहीं”

विद्यार्थी फिर हैरान होकर बोले:- “गुरुजी हम तो सिर्फ आपके दिए हुए आदेश का ही पालन कर रहे थे। आपने अपनी लिस्ट में कहीं भी यह नहीं लिखा था कि यदि आप गिर जाए तो हमें आपको भी उठाना है।

आपने कहा था केवल लिस्ट में लिखी हुई चीजों को उठाकर बैलगाड़ी में वापस रखना है। ऋषि अपने विद्यार्थियों के बातों को सुनकर अपना सर पकड़ कर बैठ गए और उन्हें समझ में आ गया कि उन्होंने अपने विद्यार्थियों को कितनी शिक्षा दी है।

 

Moral:- शिक्षकों को अपने विद्यार्थियों को हर विषय का पूरा ज्ञान देना चाहिए। ताकि वह अपने जीवन को उज्वल बना सके।

 


इसे भी पढ़ें:-

 

आत्महत्या : प्रेरक कहानी – Inspirational story in hindi
मोहब्बत का गम है मिले जितना कम है Hindi Sad Love Story
Love Story in Hindi – स्कूल टाइम की प्रेम कहानी
महामूर्ख दोस्तों का जादू – Jadu ki Kahani – Magic Story in Hindi
घूंघट – Ghoonghat – Interesting story in hindi

 

by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

 

दोस्तों, कैसे लगी आपको हमारी “ऋषि मुनि के अनोखे विद्यार्थी हिंदी की कहानी ” funny story in hindi आप सब को कैसे लगी हमे comment करके जरूर बताएं और हाँ अगर आपके पास भी कोई Interesting story है तो आप हम से share करें।

धन्यवाद!

2 thoughts on “Funny story in hindi – ऋषि मुनि के अनोखे विद्यार्थी हिंदी की कहानी”

    1. धन्यवाद शैलेन्द्र ठाकुर! आपको कहानी अच्छी लगी, यही हमारी सफलता है।
      – शुभी गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.