High blood pressure symptoms – जानिए क्यों होता है ब्लड प्रेशर, लक्षण, कारण और घरेलू उपाय

 

दोस्तों, क्या आप जानते है उच्च रक्त्चाप (High blood pressure (Hypertension)) क्या होता है? नार्मल ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए?, अगर आप नहीं जानते तो आज का यह लेख आपकी मदद कर सकता है। Blood pressure की बीमारी को समझने के लिए कि उच्च रक्त्चाप क्यों होता है?, इसके कारण (high blood pressure symptoms) क्या है, लक्षण क्या है?, हमे क्या आहार (high blood pressure diet) खाना चाहिए, कौन सा योग (yoga for high bp in hindi) करना चाहिए। ताकि हमे यह blood pressure की बीमारी ना हो। 

आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में हमारा शरीर अनेक बीमारियों से घिर जाता है। कई बीमारियां ऐसी होती है जो लंबे समय तक चलती है। कई बीमारियां ऐसी होती है जो कुछ समय में अपने आप ही ठीक हो जाती है। ऐसी ही एक बीमारी है उच्च रक्तचाप अर्थात हाई ब्लड प्रेशर की समस्या आइए जानते हैं हाय ब्लड प्रेशर होता क्या है।

हाई ब्लड प्रेशर से जाने से पहले आवश्यक है कि हम यह जाने ब्लड प्रेशर क्या होता है?

क्या होता है ब्लड प्रेशर – What is blood pressure ?

जब रक्त धमनियों में प्रभावित होता है तब इस पर लगने वाले दबाव को रक्तचाप अर्थात ब्लड प्रेशर कहते हैं। आसान शब्दों में कहा जाए तो वह बल जिसके द्वारा रक्त पूरे शरीर में घूमता है उसे रक्तचाप कहा जाता है। 

उच्च रक्तचाप किसे कहते हैं? – What is high blood pressure ?

जब ब्लड प्रेशर अपनी निर्धारित मात्रा से ऊपर हो जाता है तो उसे उच्च रक्तचाप कहते हैं अर्थात जब धमनियों में प्रभावित रक्त पर दवा की मात्रा अधिक हो जाती है तब उसे उच्च रक्तचाप कहा जाता है।

उच्च रक्तचाप के लक्षण – Symptoms of high  blood pressure

उच्च रक्तचाप के कोई खास लक्षण नहीं है परंतु इसके छोटे-छोटे कुछ सामान्य लक्षण होते हैं। जिनकी पहचान करके यह पता लगाया जा सकता है उच्च रक्तचाप समस्या है या नहीं।
– ऐसी स्थिति में सिर में दर्द होता है। यह दर्द सुबह के टाइम अधिक होता है।
– 
ऐसी स्थिति में पीड़ित व्यक्ति को चक्कर आते हैं।
– 
अक्सर कान में गूंज की आवाज सुनाई देती है।
– 
पीड़ित व्यक्ति की दृष्टि में परिवर्तन हो जाता है।
– 
व्यक्ति को कभी भी बेहोशी आ सकती हैं।
– 
पीड़ित व्यक्ति को थकान की समस्या बनी रहती है।
– 
अक्सर सीने में दर्द तथा सांस लेने की समस्या बनी रहती है।
– 
पीड़ित व्यक्ति के बोलने तथा समझने की शक्ति कम हो जाती है। घबराहट बनी रहती है और पैर सुन्न होने लगते हैं।

 उच्च रक्तचाप के क्या कारण हो सकते हैं – Causes of High Blood Pressure

– आज की हमारे जीवन शैली तथा पर्यावरण में बढ़ता हुआ प्रदूषण ही हमारे उच्च रक्तचाप का एक महत्वपूर्ण कारण है।
– 
जो व्यक्ति अपने खाने में अधिक नमक का सेवन करते हैं तथा वसायुक्त आहार अधिक खाते हैं ऐसे व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप की समस्या अधिक होती है।
– 
जो व्यक्ति अपने भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियों तथा फलों को शामिल नहीं करते और तला भुना तथा बाहर का फास्ट फूड खाते हैं ऐसे व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप की समस्या होती हैं।
– 
जो व्यक्ति किसी भी प्रकार का व्यायाम नहीं करते, शारीरिक क्रियाएं नहीं करते ऐसे व्यक्तियों को उच्च रक्तचाप होता है।
– 
चाय कॉफी तथा चॉकलेट का अधिक सेवन अर्थात कैफिन का अधिक सेवन में उच्च रक्तचाप का एक मुख्य कारण है।
– 
हम अपने खान-पान की शैली में बदलाव करके तथा अपनी जीवनशैली (Lifestyle) में कुछ परिवर्तन ला के उच्च रक्तचाप जैसी भयंकर समस्या से निजात पा सकते हैं।


ये भी पढ़ें:- गठिया रोग का घरेलु इलाज


उच्च रक्तचाप के लिए आहार – Diet for high blood pressure

आइए हम आपको कुछ ऐसे आहार बताते हैं जिन्हें अपनी जीवनशैली में अपनाकर आप उच्च रक्तचाप से निजात पा सकते हैं यह रोकथाम के उपाय निम्नलिखित हैं  

– अपने आहार में अधिक से अधिक साबुत अनाज (Whole wheat) शामिल करें। स्वस्थ आहार   (Healthy diet) जैसे साबुत अनाज, मौसमी फल, हरी  सब्जियां, डेरी प्रोडक्ट्स एवं कम फैट वाली चीजे भोजन मे शामिल करे।
– 
उच्च रक्तचाप के रोगी को अपनी डायट में कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थ अधिक खाने चाहिए।
– अपने आहार में अधिक से अधिक हरी पत्तेदार सब्जियां जैसै पालक, मैथी, सरसो आदि को शामिल करना चाहिए।
– 
आप अपने भोजन मे दूधदाल, सोयाबीन, प्याज, लहसुन और संतरें आदि का सेवन करे।
– 
अपने खाने में विभिन्न प्रकार के मेवा जैसे बादाम, अखरोट, काजू, किशमिश आदि का सेवन करें।
– 
विटामिन सी युक्त खट्टे फलों का सेवन करें जैसे कि से अमरूद, संतरा, अंगूर, सेब, अमरूद, अनार, केला, अंगूर, अनानास, मौसंबी, पपीता आदि।
– यदि आप सुबह सुबह खाली पेट दो लहसुन की कलियों का सेवन करेंगे तो उच्च रक्तचाप कम करने मे मदद मिलेगी।
– 
रोजाना पानी अधिक मात्रा में पीये।
– 
अपने भोजन में सोयाबीन तेल इस्तेमाल करें।
– 
रक्तचाप को सामान्य करने के लिए आप सलाद में प्याज, टमाटर, मूली, गाजर, खीरा, गोभी का सेवन करें।
– 
बिना मलाई वाले दूध (Tonned milk) का सेवन करें।
– 
रक्तचाप उच्च होने पर भोजन में ओमेगा-3 (Omega-3) भी शामिल करें।
हाई ब्लड प्रेशर वाले व्यक्ति को डार्क चॉक्लेट (Dark chocolate) का सेवन  करना चाहिए। डार्क चॉक्लेट बी.पी. कम करता है।
प्रतिदिन नियमित रूप से व्यायाम(Exercise) करें तथा हफ्ते में 3 दिन 30 मिनट तक तेजी से चलें। इसके साथ-साथ आप एरोबिक (Aerobics) की क्रियाएं भी कर सकते है।
प्रतिदिन सुबह-सुबह धूप में बैठकर विटामिन- डी(Vitamin-D) अवश्य लें।
प्रतिदिन 20-25 मिनट तक व्यायाम करें।

उच्च रक्तचाप की निर्धारित मात्रा – Measurement Of High Blood Pressure  

आइए हम आपको बताते हैं कि विभिन्न उम्र के पड़ाव में रक्तचाप के सामान्य मात्रा कितनी होनी चाहिए (Measurements of Blood Pressure )
15 से 25 वर्ष के मध्य  महिला 120/79mm Hg  पुरुष 120/79 mm Hg
– 
25 से 29 वर्ष के मध्य महिलाएं  120/80mm Hg पुरुष 120/80 mm Hg
30 से 39 वर्ष के मध्य महिलाएं 122/81mm Hg पुरुष 123/82mm Hg
40 से 49 वर्ष के वर्ष के मध्य महिलाएं  124/83mm Hg पुरुष 123/82mm Hg
– 
50 से 59 वर्ग के वर्ष के मध्य महिलाएंmm Hg 128/85 पुरुष 129/85 mm Hg
60 वर्ष के ऊपर महिलाएं 135/88mm Hg पुरुष 134/88mm Hg

यदि आपका उच्च रक्तचाप बढ़ जाता है तो हम आपको कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिनको करने से आप तुरंत के तुरंत उच्च रक्तचाप को सामान्य कर सकते हैं (How to control high blood pressure immediately)
– रक्तचाप बढ़ने पर डार्क चॉकलेट का सेवन करें।
 रक्तचाप बढ़ने पर ठंडे मीठे दूध का सेवन करें।
– 
आधे गिलास गुनगुने पानी में आधी चम्मच पिसी हुई कालीमिर्च मिलाकर दो 2 घंटे के अंतराल में इसका सेवन करें।
– 
3- 3 घंटे के अंतराल पर नींबू पानी का सेवन करें।
– 
सुबह 30 मिनट तक नंगे पैर घास पर चले।
– 
तिल  के तेल का सेवन अपने भोजन में करें। 

रक्तचाप कम करने के कुछ घरेलू उपाय – Home Remedies of High Blood Pressure 

1. इलायची (Cardamom )
इलायची अपने औषधि गुण के कारण हमारे लिए अत्यंत उपयोगी है। इलायची के सेवन से हमारे शरीर में उपस्थित टॉक्सिंस मूत्र के द्वारा हमारे शरीर से बाहर निकल जाते हैं और शरीर में खून का बहाव संतुलित बन जाता है। जिससे उच्च रक्तचाप भी सामान्य बना रहता है। इलायची का उपयोग विभिन्न प्रकार से कर सकते हैं जैसे कि चाय में डाल सकते हैं, खाने में डाल सकते हैं या फिर ऐसे ही इलायची का सेवन कर सकते हैं।

2. अलसी के बीज (Flax Seeds)
अलसी के बीज में ओमेगा-3 फ़ैटी एसिड होता है। जिससे एसिड, दिल से जुड़ी बीमारियों, रक्तचाप, शुगर जैसी बीमारियों से बचा जा सकता हैं। अलसी के बीज का सेवन आप किसी भी रूप में करे सकते है।

3. अजवाइन (Carom Seeds)
अपने खानपान में अजवाइन को शामिल करें। अजवाइन के सेवन से बॉडी के टॉक्सिन बाहर निकल जाते है जिसकी वजह से ब्लड प्रेशर सामान्य बना रहता है। आप अजवाइन का सेवन मसाले के रूप में, आटे में डालकर तथा अजवाइन को पानी में उबालकर उसका पानी पी सकते है।

4. अजमोद या सेलरी (celery)
अजमोद के सेवन से हमारे शरीर के विषैले तत्व मूत्र के रूप में बाहर निकलते हैं। जिससे कि हमारा खून तथा धमनियां उचित प्रकार से कार्य करती हैं। जोकि ब्लड प्रेशर तथा कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।  

5. ग्रीन टी या ऊलोंग टी ( Green Tea )
ग्रीन टी में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं जो हमारे शरीर के लिए उपयोगी होते हैं। यह हाइपरटेंशन ,कोलेस्ट्रोल, ब्लड प्रेशर, शुगर को कंट्रोल करने में काम आते हैं। आप इसका सेवन सुबह कर सकते, शाम को कर सकते हैं या अपनी सुविधा अनुसार ग्रीन टी को किसी भी समय ले सकते हैं।


ये भी पढ़ें :- जानिए क्यों जरूरी है शरीर के लिए फोलिक एसिड ?


रक्तचाप कम करने के कुछ योगासन  – Yoga for high blood pressure

1. शवासन (Corpse pose)
शवासन जैसे कि नाम से ही पता चल रहा है “शव के समान”। शवासन को रोज 15 – 20 मिनट तक करने से आपका दिमाग शांत होगा। शवासन करने से आपका बल्ड प्रेशर सामान्‍य हो जाएगा।
शवासन करने के लिए आप पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों में अंतर रखें। अपना मुख आकाश की तरफ तथा हथेलियां सीधी रखें और धीरे-धीरे सांस लें तथा छोड़ें। 

2. सुखासन (Easy pose)
सुखासन एक ऐसा आसन है जिससे आप अपने ब्लड प्रेशर को कम कर सकते है सुखासन योग करने से आप मानसिक और शारीरिक रूप से स्वास्थ्य हो सकते हैं।
सुखासन के लिए आप जमीन पर बैठ जाएं तथा अपने आप को तनावमुक्त रखें। अपनी कमर को सीधा करते हुए बैठे और प्राणायाम शुरू कर दें। इस प्रकार से आप सुखासन कर सकते हैं।

3. भुजंगासन (Cobra pose)
भुजंगासन तनाव और उच्च रक्तचाप से आराम दिलाता है। भुजंगासन करने से शरीर के भीतर ऐसे हार्मोन रिलीज होते हैं जो थकान, तनाव व चिंता आदि को दूर करते हैं।
भुजंगासन पेट के लिए बेहद फायदेमंद है। सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं और अपनी हथेलियों को अपने कंधे की सीध में लेकर जाएं। फिर अपने दोनों पैरों के बीच की दूरी को कम करें साथ ही पैर को सीधा तथा तना हुआ रखें। अब सांस भरते हुए शरीर के अगले हिस्से को नाभि तक उठाएं। इस प्रकार के आसन करें।

उच्च रक्तचाप से होने वाले जोखिम – Dangers of high blood pressure 


पीड़ित व्यक्ति को कभी भी Heart Strock आ सकता है।
उच्च रक्तचाप से Heart Fail खतरा बढ़ जाता है।
– 
उच्च रक्तचाप से नस फटना आंखों से दिखाई ना देना आदि जैसी समस्याएं भी होती है।
– 
कॉलेस्ट्रोल के स्तर में भी  बढ जाता है।

अगर संक्षेप में कहा जाए तो उच्च रक्तचाप (High blood pressure) आज के समय की एक गंभीर समस्या है। जिससे मनुष्य की हर पीढ़ी का व्यक्ति परेशान है, चाहे वो युवा हो या वृद्ध हो, सभी को उच्च रक्तचाप आज के दौर में परेशान कर रहा है।

यदि हम अपनी जीवनशैली में कुछ सुधार कर लें और अपनी दैनिक गतिविधियों में बदलाव करें एवं अपने खानपान में परिवर्तन कर ले, तो हम उच्च रक्तचाप से निजात पा सकते हैं। उच्च रक्तचाप हमारे लिए गंभीर समस्या बने या एक मामूली समस्या बन जाए यह हमारे ही हाथ में है। बस हमें इसके लिए अपनी जीवनशैली में बदलाव करना होगा। अपने आहार में किसी भी तरह का बदलाव करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें।


इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आप तक सरल भाषा में सही जानकारी पँहुचाने का प्रयास किया है। घरेलू उपचार निश्चित रूप से कारगर होते हैं पर किसी भी उपाय को करने से पहले अपने doctor से परामर्श अवश्य करें। साथ ही regular health checkup भी अवश्य कराऐं। यह लेख आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं। इस लेख को अधिक से अधिक share करें ताकि अन्य लोग भी लाभ उठा सकें।

By:- Neha sudhir bajpai
Lifewingz

Image credit:- canva

Leave a Reply

Your email address will not be published.