Hindi Sad Love Story आपने बहुत पढ़ी होगी, इसलिए आज मैं भी आपके लिए लेकर आई हूँ एक emotional love story in hindi जिसे पढ़ने के बाद शायद आपकी भी पुरानी यादें ताज़ा हो जाए ।                

 

मुझे याद है वो दिन जब मैंने अपने सपनों के राजकुमार को पहली बार देखा था। मानो ज़मीन रुक गई हो,और मेरे पीछे वायलन बज रहा हो और तभी उसने मुझसे आ कर अपने ही घर का रास्ता पूछा। 

अब आप लोग सोच रहे होंगे के कोई कैसे अपने ही घर का रास्ता पूछ सकता है, लेकिन ये बात सच है वो इस शहर में नया था ना ओर उसके मम्मी पापा ने घर शिफ्ट किया था। 

अरे-अरे मैं तो अपने बारे में बताना ही भूल गई में यानी अकु यानी अक्रती ओर ये राजकुमार कोई और नहीं मेरे पति देव है यानी हिमांशु और अभी 3 साल पहले ही हमारी शादी हुई है।

 

और ये पहली बार था जब मैने हिमांशु को देखा और वो कहीं ओर नहीं मेरे घर के बाजू वाले घर में रहता था मतलब मेरी शादी मेरे पड़ोसी से ही हुई है।

और मुझे याद है शादी के दिन मेरे दादाजी ने मुझे ये पासबुक थी ओर बोला था इसमें मैने 1000 रुपए डाल दिए है, मैने बोला लेकिन दादाजी ऐसा क्यों? दादाजी ने मुस्कुरा कर बोला की मेरी रानी ये पैसे नहीं है ये एक ज़िन्दगी की किताब है हिमांशु ओर मैंने एक साथ बोला किताब ?? मतलब 

दादाजी ने बोला के जब भी कोई खुशी हो हमेशा इसमें कुछ पैसे डालना ओर उसपर लिख देना के किस चीज के लिए पैसे डाले है इसे तुम दोनों की यादे भी बनी रहेंगी और पैसे भी जुड़ जाएंगे।

“लेकिन अब सब कुछ बदल गया 

मैं और हिमांशु डाइवोर्स के लिए अप्लाई कर चुके है 

और हमे 6 महीने का समय मिला है” 

 

 

आज मैं हिमांशु को बोलूंगी की इस अकाउंट को बंद कर के सारे पैसे निकाल लाए। उसी रात मैंने हिमांशु को बोला और अगले दिन जब हिमांशु बैंक में लाइन में लगा था। 

वो पासबुक देख रहा था और उसने वो सभी यादें पड़ी और बिना काम किये वापस आ गया और मुझे बोला की तुम जा कर करो ये काम मुझे और भी कम है मैने भी गुस्से में बोल दिया ठीक है।

 

अगले दिन जब मैं बैंक पहुंची तब लाइन में लग कर पासबुक पढ़ रही थी पढ़ते-पढ़ते मेरी आंखों में पानी आ गया ओर मैंने ये सोचा के कैसे मैं हिमांशु से दूर हो गई ओर कैसे डाइवोर्स के लिए हम मान गए।

मैंने सोचा की घर पहुंच कर हिमांशु से बात करूंगी। जब मैं घर पहुंची देखा हिमांशु घर पर ही है ओर मेरे घर में आते ही उसने मुझे अपने गले लगा लिया और बोला :-

“मुझे पता था कि तुम भी ये काम नहीं कर पाओगे ओर वापस आ जाओगी।

मैने हिमांशु से माफी मांगी और कभी अलग ना होने का फैसला किया

आज इस बात को पूरा एक साल हो गया है”

लड़ाइयां किस में नहीं होती है बात ये है उन सभी बातो को भूल के आगे निकल जाने की अगर दादा जी ने ये पासबुक ना दी होती तो हम तो कब के अलग हो गए होते बिना सोचे की लड़ाई की जड़ क्या है हम अपने सभी अच्छे पलो को भूल जाते है लेकिन अब हम साथ है।  

 

दोस्तों अगर “मोहब्बत का गम है मिले जितना कम है Hindi Sad Love Story” आपको अच्छी लगी, तो शेयर ज़रूर कीजिएगा। 

 


इसे भी पढ़ें :

 

मुक्ति चुड़ैल की – Bhoot chudail – Ghost real story in hindi

गरीब बुढ़िया की खीर का जादू – Jadu ki Kahani – Magic Story in Hindi

महामूर्ख दोस्तों का जादू – Jadu ki Kahani – Magic Story in Hindi

जादुई पत्तियों का पेड़ और लालची कलंदर – Jadui Kahani in Hindi

jadui kahaniya – राजा की मुछों का जादू। Moral story in hindi 2020

घूंघट – Ghoonghat – Interesting story in hindi


 

by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

 

दोस्तों, कैसे लगी आपको हमारी “Hindi Sad Love Story मोहब्बत का गम है मिले जितना कम है” हमे comment करके जरूर बताएं और हाँ अगर आपके पास भी कोई Interesting story है तो आप हमसे share करें।

धन्यवाद! 

 

Credit:- Kahani Nation