kavita hindi mein “मजबूर है वो क्योकि मजदूर है वो” कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा मजबूर हमारे मजदूर हैं, आज की sad poem in hindi उन मजदूर भाईयों को समर्पित है जो पूरे देश में इस जानलेवा वारस का असर फैलने की वजह से … कोरोना वायरस की दहशत के बीच इतनी गर्मी में पैदल निकले घर लौटने को मजबूर है।

 

तप्ती गर्मी में लौट रहे है वो

कमाने निकले थे दो पैसे

 

लेकिन छाले ले कर लौट रहे वो

मजबूर है वो क्योकि

मजदूर है वो

 

आंखों से आंसू बह रहे है

टिप-टिप लेकिन

मंजिल अभी दूर है 

 

घबराएं है वो

हिम्मत नहीं खोई 

 

क्योकि मजबूर है वो

बेगाने शहर में कोई अपना नहीं

खाने को खाना नहीं

 

सिर छुपाने को छपरा नहीं

इंसान है वो लेकिन मजबूर है वो।।

 

 

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजिएगा।

 


# नई जानकारी के लिए Lifewingz Facebook Page को फॉलो करें    


 

ये भी पढ़ें:-

1) हिंदी की कविता सिर्फ़ एक पल
2)  झाँसी की रानी कविता – सुभद्रा कुमारी चौहान
3) तू जरा सब्र तो रख! Inspirational Poem In Hindi
4) चेहरे पर चेहरा लगाए घूम रहा है आदमी – Sad poem
 5) चलो सब इंसान बन जाएँ। Hindi mein kavita

 

by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

 

” मजबूर है वो क्योकि मजदूर है वो” – Labour Poetry In Hindi आपको यह हिंदी कविता कैसी लगी हमे अपने कमेन्ट के माध्यम से जरूर बताये क्योंकि आपका हर एक Comment हमें और बेहतर लिखने के लिए प्रोत्साहित करेगा

धन्यवाद!