आज हम आपके लिए लेकर आए है! new hindi poem असलियत-ए-ज़िन्दगी ( life poem in hindi ) हिंदी कविता में बताया गया है कि जब हमे अपनों की जरूरत होती है! वो हम से दूर हो जाते है और इस तरह हमे अपनों की असलियत का पता चलता है! ( short hindi poem on life )

 

 

गिरना जरूरी है

ठोकर खाना जरूरी है

ह़ीक़त का पता चलता है

गिर के अपनों का हाथ ना आए

असलियत का पता चलता है,

 

गुस्से से दिल की सफाई का पता चलता है

झुटे तो हमेशा मुस्कुराते है,

 

अपने मुसीबत में साथ ना दे तो

अपनों का पता चलता है

अज्ञानी जब ज्ञान दे तो 

परदा उठ जाता है

 जिंदगी का आइने साफ दिखता है,

 

हर मोड़ पर काटे बिझे है

हर कदम संभाल कर उठाना

काटे चुभे तो रुकना नहीं

आगे बढ़ते जाना है,

 

क्युकी देर अंधेरे के बाद ही 

नई सुबह आती है

हर मुश्किल का सामना करने के बाद

ही तो नई रोशनी जिंदगी में नया उजाला लाएगी।।

 

 

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। ?

 


ये भी पढ़ें:-

 

1)  ज़िन्दगी एक किताब है। ( hindi kavita )
2)  मेरे पिता पर सुन्दर कविता – मेरे पिता मेरा अभिमान !
3)  क्यों कहते है – “जय माता दी”? नारी की आवाज!?

 

 by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )

Story and Poem Writer

 

image credits: freepik

असलियत-ए-ज़िन्दगी ( hindi kavita on life ) hindi Poem में  सच्चाई बताई  है हमारी जिन्दगी की आज  के समय में दोस्तों हर किसी के साथ ऐसा होता भी है अपने ही हमे परेशानी में अकेला छोड़ कर चले जाते है और जिन्हें हम अभी मिले होते है वे हमारे साथ खडें रहते है! patriotic poem in hindi