Live-in Relationship | लिव इन रिलेशनशिप को ऐसे बनाएं खास

Live in relationship एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें विवाह के बिना एक लड़का और लड़की साथ रहते है इस रिलेशन में रहने वालों को relationship rules का पता होना चाहिए। आज के इस लेख में हम आपके लिए relationship advice लेकर आए है। अगर आप healthy relationship चाहते हो, तो आपको इन नियमों का पालन करना होगा।


लिव इन रिलेशनशिप ( Live in relationship), आज के इस दौर में, किसी के लिए जरुरत है, किसी के लिए आजमाईश है तो किसी के लिए मजबूरी भी है। किसी समय, बेहद बुरी नजर से देखा जाने वाला ये रिश्ता, आज केवल बड़े शहरों तक ही सीमित नहीं रह गया है, बल्कि छोटे- छोटे शहरों में भी अब लिव इन रिलेशनशिप में रहना एक आम बात हो गई है।

हालांकि इस तरह के रिलेशनशिप को लेकर, हमारे समाज का नजरिया, आज भी स्पष्ट नहीं है। लिव इन रिलेशनशिप को लेकर, किसी ने अपना दृष्टिकोण बदला है तो कोई इसे आज भी अच्छा नहीं मानता है। खैर हर व्यक्ति के अपने अपने विचार होते हैं और अपने अपने स्तर पर, हर किसी को सोचने और समझने की बुद्धि और आजादी होती है।

आज के समय का, युवा वर्ग ऐसा है जो, शायद पिछली सभी generations के मुकाबले, बहुत आगे की सोच रखता है। वह अपने विचारों को ही सबसे ज्यादा महत्व देता है और कोई क्या सोचता है उसे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। शायद, “लोग क्या कहेंगे” यह लाइन उनकी dictionary में है ही नहीं। उसे रिश्तों में बंधन नहीं बल्कि आजादी चाहिए। ना तो वो खुद किसी बंधन में रहना चाहता है और ना ही किसी को अपने साथ बांधकर रखना चाहता है। एक मरे हुए रिश्ते को फिर से जिंदा करने की कोशिश और उम्मीद में, जिंदगी भर उस रिश्ते का बोझ ढोने में उसका कोई इन्ट्रेस्ट नहीं होता है और ना ही वह शादी के रिश्ते में किए जाने वाले समझोतों को पसंद करता है।

इसलिए शायद लिव इन रिलेशनशिप (Live in relationship) का concept आज की generation में बहुत लोकप्रिय होता जा रहा है। लिव इन रिलेशनशिप (Live in relationship) के भी अपने फायदे और नुक्सान होते हैं जिन्हें लोग अपने हिसाब से देखते और समझते हैं।

आज हम चर्चा करेंगे कि लिव इन रिलेशनशिप में रहने वाले लोगों को किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए और किन Golden rules को follow करना चाहिए, जिससे वह अपनी इस relationship को और भी ज्यादा मजबूत और बेहतर बना सकते हैं और अपने जीवन के इस महत्वपूर्ण समय को enjoy करते हुए, अपनी रिलेशनशिप को सुंदर और स्वस्थ बनाए रख सकते हैं।


1 अनावश्यक अधिकार ना जताएं

सबसे पहली बात तो यह ध्यान में रखें कि यदि कोई व्यक्ति, लिव इन रिलेशनशिप में रहने जैसा असाधारण फैसला करता है तो वह व्यक्ति निश्चित रूप से, आजादी पसंद होगा और किसी बंधन में रहना नापसंद करता होगा, तो फिर सबसे पहला गोल्डन रुल यही है कि एक साथ, एक ही छत के नीचे रहते हुए भी आप एक दूसरे को पूरी आजादी दे। पति-पत्नी की तरह एक दूसरे पर अधिकार जताने की कोशिश, आपके रिश्ते पर भारी पड़ सकती है।


2 रहने की जगह का चुनाव

रहने के लिए जगह का चुनाव करते समय एक दुसरे की पसंद नापसंद को ध्यान में रखना बहुत जरूरी है। और बजाय एक ही कमरे में रहने के, बेहतर होगा कि दोनों के दो अलग-अलग कमरे हो। ऐसा इसलिए क्योंकि लिव इन में, एक दूसरे की प्रायवेसी का ध्यान रखना, सबसे बड़ा फेक्टर होता है। आपकी कुछ पर्सनल आदतें भी ऐसी हो सकती है जिसे आपका पार्टनर पसंद ना करें इसलिए कमरे अलग हो तो ही बेहतर है।


ये भी पढ़ें:- Relationship Advice – स्री-पुरुष क्या चाहते हैं प्यार में ?



3 आर्थिक मामलों में स्पष्टता होना

लिव इन में आपको हमेशा यह याद रखना होगा कि, आप दोनों केवल साथ में रह रहे हैं और एक दूसरे की जिम्मेदारियों को उठाना आपकी चॉइस हो सकती है लेकिन मजबूरी नहीं। याद रखिए कि, पैसा किसी भी रिश्ते के बनने और बिगड़ने में बहुत बड़ी भूमिका निभाता है। पति-पत्नी के बीच में तो पैसे को लेकर अनबन होना आम सी बात है लेकिन लिव इन रिलेशनशिप में तो पैसा, आपके रिश्ते के लिए बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकता है। इसलिए आपको घर के किराए से लेकर, हर छोटे-बड़े खर्च के हिसाब किताब के प्रति बड़ी ही स्पष्टता रखनी होगी और सावधानी से काम लेना होगा नहीं तो रिश्ते में खटास आने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।


4 मुश्किल घड़ी में साथ दे

आप भले ही लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे हैं और शायद आपने एक दूसरे के मामलों में हस्तक्षेप ना करने का रुल भी बनाया ही होगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप एक दूसरे की परेशानियों को भी इग्नोर करें। आपको यहां पर एक दोस्त के साथ साथ, एक रिश्तेदार और शुभचिंतक का रिश्ता भी निभाना है। यदि आपका लिव इन पार्टनर किसी मुश्किल में है या मानसिक रूप से परेशान हैं तो आपको उसकी हेल्प करने की पहल करनी होगी। हां यह अलग बात है कि यदि वो हेल्प लेना ना चाहे तो, उसे फोर्स न करें और उसके मामले से दूर ही रहें। बीमार होने पर अपने पार्टनर का ध्यान रखें और उसकी देखभाल करें। इससे एक दुसरे के प्रति प्यार और सम्मान की भावना बढ़ती है और रिश्ते में विश्वास बढ़ता है।


5 काम को बांट लें

लिव इन रिलेशनशिप में आपको कदम कदम पर यह अहसास होना जरूरी है कि, आप पति-पत्नी नहीं है और एक आम परिवार में नहीं रहते हैं जहां पति और पत्नी या औरत मर्द के काम निर्धारित और बंटे हुए होते हैं। आपको यहां बिना डिस्क्रिमिनेशन के, मिल बांटकर हर काम करना पड़ता है। एक दूसरे पर काम का अतिरिक्त बोझ ना डाले तभी यह रिलेशनशिप हंसी खुशी चल सकती है।


ये भी पढ़ें:- happy married life tips – आखिर क्यों है शादी-शुदा ज़िंदगी में तनाव?



6 फिजिकल रिलेशन के मामले में सतर्कता

आपको सेक्स के मामले में बहुत ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। किसी भी तरह की रिस्क ना उठाते हुए, बिना लापरवाही बरते सेफ सेक्स को ही प्राथमिकता दें। शारीरिक संबंधों में एक दुसरे की सुविधा, इन्ट्रेस्ट और इच्छा की भी रिस्पेक्ट करें। किसी तरह की जबरदस्ती ना करें, जिससे सेक्स एक मजबूरी ना लगे और इसमें दोनों पार्टनर्स को इन्ट्रेस्ट बना रहे और आपका रिश्ता भी और मजबूत हो जाएं।


7 भविष्य की चिंता

शादी या बच्चे एक बहुत ही नाजुक और गंभीर विषय हो सकता है किसी भी लिव इन रिलेशनशिप में। लंबे समय तक एक साथ रहते हुए, आपको इस बात का तो अंदाजा हो ही जाएगा कि आपको अपनी रिलेशनशिप कितनी दूर तक लेकर जानी है या बच्चों के विषय में आपके क्या विचार है। इन गंभीर मुद्दों पर आप दोनों को ही अपने विचार एकदम स्पष्ट रखने होंगे।

याद रखे आप एक ऐसे रिलेशनशिप में रह रहे हैं, जिसे समाज में आज भी पूरी तरह से अपनाया नहीं गया है। इसलिए यदि आप लिव इन रिलेशनशिप में रहकर बच्चों के विषय में सोच रहे हैं तो आपको इस पर बहुत ज्यादा सोच-विचार करके ही कोई फैसला लेना चाहिए। ऐसा ना हो कि आपके किसी भी गलत फैसले का दुष्प्रभाव आपके बच्चे के जीवन पर पड़े। इसलिए इस फैसले को बिल्कुल भी पर्सनल डिसिजन ना समझते हुए, दोस्तों, करीबी रिश्तेदारों या किसी Relationship counselor की मदद लेने में बिल्कुल भी ना हिचकिचाएं। अपने भविष्य के प्रति बिल्कुल भी सचेत रहें।


8 चिटिंग ना करें

आप दोनों ने समाज और परिवार की परवाह ना करते हुए, लिव इन रिलेशनशिप जैसा साहसी कदम उठाया है तो आप दोनों को ही इस रिलेशनशिप पर मिलकर काम करना होगा। यूं तो धोखा, बेईमानी या चिटिंग किसी भी रिश्ते में नहीं होनी चाहिए लेकिन आपका रिश्ता तो और भी संवेदनशील है, यहां किसी भी तरह की चिटिंग आप दोनों के लिए हानिकारक हो सकती है। एक दुसरे को आर्थिक रुप से धोखा देना या इमोशनली ब्लेकमैल करना गुनाह होता है। ऐसे रिश्ते का अंजाम भयानक भी हो सकता है। इसलिए ऐसा कोई कदम ना उठाए। कोई भी ऐसा कमिटमेंट ना करें जिसे आप निभा ना सकें।


तो दोस्तो, यह थी कुछ ऐसी बातें या कुछ ऐसे Golden rules, जिन्हें लिव इन रिलेशनशिप ( Live in relationship) में रहने वाले हर कपल को हमेशा follow करने चाहिए, जिससे उनका relationship बेहतर और मजबूत हो सके। उम्मीद है आपको यह लेख पसंद आया होगा। ऐसे ही और healthy relationship tips के लिए lifewingz.com को follow करें।
धन्यवाद!

Written by:- Renuka Raje
Image credit:- Canva.com


Leave a Reply

Your email address will not be published.