दोस्तों! आज के समय में अख़बारों ( Newspaper ) में जो ख़बरें आती हैं और कुछ खबरें तो ऐसे होती जिसे पढकर हम बहुत दुखी हो जाते है, ( poem on newspaper ) आज हम उसी पर ही आपके लिए हिंदी कविता ( hindi poem ) “हाँ जी मैं हूँ अखबार” लेकर आए है !

 

 

हाँ जी मैं हूँ अखबार

रोज आपके घर

लाऊ खबरों का भंडार,Newspaper on WhatsApp 2.19.352

 

कहीं हो रेप कहीं हो चोरी

सारी खबरें सुर्खियां बना कर, 

 

आप तक लाऊ कभी मैं आपकीआवाज बन

लोगो तक आपका संदेश पहुंचाऊं

आपकोNewspaper on Messenger 1.0 सीधा जनता से जोड़ जाऊ,

 

जो अफसर गहरी नीद में सो

गुनाह Newspaper on WhatsApp 2.19.352को देख ना पाए

उन्हें नीद से मैं जगाऊ,

 

सरकार के काले चिट्ठे भी खोल 

जनता तक पहुंचा जनता को आइना दिखाऊं,

 

बच्चो के लिए मैं नई-नई कहानियां लाऊ

यहां तक कि पहेलीNewspaper on Messenger 1.0 से उनको नई सीख मैं सिखाऊँ,

 

मैं हूं लोकतन्त्र का चौथा सतंभ

जनता की ताक़त हूं

बुराई पर हावी हूँ

हाँ जी मैं हूँ अखबार!Newspaper on WhatsApp 2.19.352Newspaper on Messenger 1.0

 

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। ?

 

 


ये भी पढ़ें:-

 

1) असलियत-ए-ज़िन्दगी – Life Poem in Hindi

 

2) बाल मजदूरी बोझ है बचपन पर ! Child Labour Poems in Hindi

 

3)  क्यों कहते है – “जय माता दी”? नारी की आवाज!?

 

4) Tom and jerry जैसा भाई-बहन का रिश्ता – Brother and Sister Poem

 

 

 by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )

Story and Poem Writer

 

आज की हमारी poem “हाँ जी मैं हूँ अखबार  कैसी लगी? आप अपने comments के माध्यम से हमें बता सकते है! ऐसी ही अन्य Hindi poem, article, motivational story, quotes, thoughts, या inspire poem इत्यादि पढ़ने के लिए हमें follow ज़रूर करें!

धन्यवाद !