Skip to content

यादव को काबू कैसे रखें | Yadav Ko Kaise Kabu Me Kiya Jaye | यादवों का इतिहास क्या है?

    Yadav Ko Kaise Kabu Me Kiya Jaye

    Yadav Ko Kaise Kabu Me Kiya Jaye | यादवों का इतिहास क्या है?

    yadav ko kaise kabu kare? यादवों को काबू में कैसे करें? यादवों को काबू करना बहुत ही मुश्किल है। यादव को काबू में करना क्यों मुश्किल है, यह आप लेख को पढ़कर समझ जाएंगे, यादव समुदाय के सर्वश्रेष्ठ इतिहास का वर्णन हम इस आर्टिकल में बताएंगे, और आपकी सर्च यहीं पर खत्म हो जाएगी की यादवों को काबू में कैसे करें?

    यादवों का इतिहास क्या है?

    यादव को काबू कैसे करें? इस सवाल के जवाब के लिए आपको यादवों के इतिहास को जानने की जरूरत है, आप समझ जाएंगे कि यादवों को काबू करना मुश्किल क्यों है, यह कहा जाता है यादव हमेशा से ही पराक्रमी और स्वतंत्रता पसंद माने जाते है, यादव जाति को यदुवंशियों और अहीर कहकर से भी जाना जाता है, महाराज यदु से यादवों की शुरुआत हुई महाराज यदु से ही इनका नाम यदुवंशि पड़ा, अहीर शब्द संस्कृत शब्द के आभीर शब्द से निकला है जिसका अर्थ होता है निडर।

    यादवों को दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, यूपी में राव साहब नाम से भी पुकारा जाता है, भारत की कुल आबादी में लगभग 23% आबादी यादवों की है, भारत का 12.8 प्रतिशत व्यापार भी यादव जाति के लोगों द्वारा होता है। श्रीलंका, नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश और कुछ देशों में भी यादव लोग रहते हैं।

    यादवों ने राजनीति, इतिहास, विज्ञान, सैन्य, अर्थशास्त्र, खगोल विज्ञान में बहुत ज्यादा योगदान दिया है, यादवों को हिंदू धर्म में क्षत्रिय वर्ग प्राप्त है, यादवों ने कई वर्षों तक अपना साम्राज्य नेपाल और भारत में फैलाए रखा था। यादवों के बहुत सारे साम्राज्य के अंश आज भी पाए जाते हैं। दक्षिण भारत के कई प्राचीन मंदिरों का निर्माण भी यादवों ने ही किया था।

    यादवों के राजवंश का विक्रमशिला और नालंदा विश्वविद्यालय के उत्कर्ष में बहुत योगदान है, यादवों ने और उनकी अजय नारायणी सेना ने महाभारत में भी अपने बेजोड़ सोर्य का जलवा बिखेरा था, यादव समाज की ताकत का अंदाजा आप यह जानकर लगा सकते हैं की प्राचीन समय में बहुत सारे राज्यों के सेनापति केवल यादव/अहीर ही बन सकते थे अर्थात यह पद यादवों के लिए आरक्षित था।

    यादवों का अंग्रेजों से सामना !

    यादवों ने सन 1739 में ईस्ट इंडिया कंपनी यानी अंग्रेजो के विरुद्ध सर्वप्रथम तमिलनाडु के अलमुतुकोंन ने विद्रोह किया, जिसमें वह वीरगति को प्राप्त हो गए। इसके बाद सन 1848 में हरियाणा के राव गोपाल देव ने अकेले 28 अंग्रेजो को मार गिराया। 10 मई 1857 में स्वतंत्रता संग्राम में यादवों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। ऐसे ही बहुत सारे युद्धों में यादव वर्षों के बहुत सारे लोगों ने भाग लिया और अपने बेहतरीन सोर्य का परिचय दिया, संसार के महान जातियों में से एक यादव वंश बहुत विशाल है।

    यादवों की उत्पत्ति कैसे हुई?

    यादवों के इतिहास के बारे में इतिहासकारों के अलग-अलग विचार हैं। यादवों के अस्तित्व के प्रमाण महाभारत और श्री भगवत गीता में भी मिलते हैं। सतयुग में इन्हें आभीर अहीर गोप ग्वाला के नाम से जाना जाता था, कुछ विद्वान मानते हैं कि इनका अस्तित्व आर्यों से भी पहले का है, ऐसा माना जाता है कि अहीर अथवा यादव यदुवंशी राजा आहू के वंश से है, पुराने समय के राजा ययाति की दो पत्नियां थी, जिनका नाम देवयानी व शर्मिष्ठा देवयानी था, जिनमें देवयानी का एक पुत्र हुआ, जिसका नाम यदु रखा गया और आगे चलकर यदु के वंश का नाम यदुवंश पड़ गया, आजकल हम इसे यादव नाम से जानते हैं।

    यादव को काबू कैसे रखें? (Yadav Ko Kaise Kabu Me Kiya Jaye)

    हम आपको जो तरीका बता रहे है उससे आप बहुत ही आसानी से यादव को काबू कर सकते है। अगर आप यादव को काबू करना चाहते है तो इसके लिए आपको कुछ बातो को ध्यान में रखना होगा तभी आप इन्हे काबू कर सकते है।

    यादव को काबू करने के लिए आपको कई बातो को ध्यान में रखना होता है व हम आपको कुछ आसान से तरीके बता रहे है उन तरीको को अपनाकर आप किसी भी यादव को काबू कर पाएंगे इसके लिए आप हमारे आर्टिकल को और हमारे द्वारा दी जाने वाले जानकारी को ध्यान से पढ़े.

    1. यादव समाज का सम्मान करें !

    आप यादव को काबू करना चाहते है तो आपको यादव का सम्मान करना बहुत ही जरुरी है यह क्षत्रिय समाज होने के कारण यह सम्मान को बहुत ही अधिक महत्त्व देते है आप जितना अधिक यादव का सम्मान

    2. यादव के स्वाभिमान को ठेस न पहुंचाएं !

    हमने आपको पहले भी बताया है की यह जाती बहुत ही स्वाभिमानी होती है और इस जाती की स्वाभिमान पर बात आती है तो यह कुछ भी करने को तैयार हो जाते है ऐसे में आपको विशेष रूप से ध्यान रखना है की यादव को काबू करने के लिए कभी भी किसी भी स्थिति में इनके स्वाभिमान को ठेस न पहुचाये इससे आप यादव को आसानी से काबू कर सकते है.

    3. धार्मिक बाते करें !

    यादव समाज श्री कृष्णा को अपने पूर्वज मानते है व इस कारण से यह धर्म पर बहुत ही अधिक आस्था रखते है व अगर आप किसी भी यादव को काबू करना चाहते है तो आप धार्मिक बाते करके किसी भी यादव को काबू कर सकते है और इसके आलावा आप चाहे तो यादव को धार्मिक किताबे जैसे गीता आदि देकर या धार्मिक गिफ्ट प्रदान करके भी काबू कर सकते है.

    4. यादव से विश्वासघात ना करें !

    अगर आपको यादव को काबू करना है तो यह बहुत ही जरुरी है की आप कभी भी किसी भी यादव को किसी भी प्रकार का धोखा न दे क्युकी यह समाज धोखा देने वाले लोगो को कभी माफ़ नहीं करती अगर कोई समस्या हो तो इसके सामने सुलझा ले पर इन्हे धोखा देने के बारे में कभी न सोचे अगर आप इनको कभी धोका नहीं देंगे तो आप इन्हे बहुत ही आसानी से काबू कर पाएंगे.

    ये भी पढ़ें :
    History of Maharana Pratap | भारत के वीर पुत्र – महाराणा प्रताप
    Attitude status for whatsapp in hindi – attitude status hindi 2022

    Article by Raghav Yadhuvanshi

    source: Wikipedia

    Leave a Reply

    Your email address will not be published.