Skip to content

shri bhagwat geeta

Shrimad Bhagavad Geeta

Geeta Path ( Daivasura Sampad Vibhaga Yoga) | अध्याय सोलहवां — देव असुर संपदा विभाग योग

    Geeta Path Hindi: दैवासुरसंपद्विभाग योग गीता का सोलहवां अध्याय है, जिसमें 24 श्लोक हैं। इसमें कृष्ण स्वाभाविक रूप से एक दिव्य प्रकृति के बुद्धिमान व्यक्ति… Read More »Geeta Path ( Daivasura Sampad Vibhaga Yoga) | अध्याय सोलहवां — देव असुर संपदा विभाग योग

    Shrimad Bhagavad Geeta

    Bhagavad Geeta Hindi ( Purushottama Yoga) | अध्याय पन्द्रहवां — पुरुषोत्तम योग

      Bhagavad Geeta Hindi: गीता का पंद्रहवां अध्याय पुरुषोत्तम योग है, जिसमें बीस श्लोक हैं। इसमें श्री कृष्ण कहते हैं कि दिव्य प्रकृति के ऋषि हर तरह से मेरी पूजा करते हैं और राक्षसी प्रकृति के अज्ञानी मेरा मजाक उड़ाते हैं। Read… Read More »Bhagavad Geeta Hindi ( Purushottama Yoga) | अध्याय पन्द्रहवां — पुरुषोत्तम योग

      Shrimad Bhagavad Geeta

      Srimad Bhagavad Geeta ( Gunatraya Vibhaga Yoga) | अध्याय चौदहवां — गुण त्रय विभाग योग

        Srimad Bhagavad Geeta:- गण त्रय विभाग योग गीता का 14वां अध्याय है, इसमें 27 श्लोक हैं। इसमें श्रीकृष्ण ने सत्व, रज और तमस के गुणों तथा मनुष्य की अन्य सच्ची अर्ध गतियों का विस्तार से वर्णन किया है। अंत में, इन… Read More »Srimad Bhagavad Geeta ( Gunatraya Vibhaga Yoga) | अध्याय चौदहवां — गुण त्रय विभाग योग

        Shrimad Bhagavad Geeta

        Bhagavad Geeta ( Ksetra Ksetrajna Vibhaaga Yoga) | अध्याय तेरहवां — क्षेत्रक्षत्रज्ञविभागयोग

          Bhagavad Geeta: क्षेत्रक्षत्रज्ञविभागयोग गीता का तेरहवां अध्याय है, इसमें 35 श्लोक हैं। इस खंड में, श्री कृष्ण अर्जुन को क्षेत्र और क्षेत्रज्ञ के ज्ञान के… Read More »Bhagavad Geeta ( Ksetra Ksetrajna Vibhaaga Yoga) | अध्याय तेरहवां — क्षेत्रक्षत्रज्ञविभागयोग

          Shrimad Bhagavad Geeta

          Shrimad Bhagavad Geeta Hindi ( Bhakti Yoga) | अध्याय बारहवाँ — भक्तियोग

            Shrimad Bhagavad Geeta: भक्ति योग गीता का बारहवां अध्याय है और इसमें 20 श्लोक हैं। इस अध्याय में, भगवान कृष्ण अर्जुन को भक्ति के मार्ग… Read More »Shrimad Bhagavad Geeta Hindi ( Bhakti Yoga) | अध्याय बारहवाँ — भक्तियोग

            Shrimad Bhagavad Geeta

            Bhagavad Geeta Hindi ( Vishwaroopa Darshana Yoga ) | अध्याय ग्यारहवाँ — विश्वरूपदर्शनयोग

              Bhagavad Geeta Hindi: विश्वस्वरूपदर्शन योग गीता का ग्यारहवां अध्याय है और इसमें 55 श्लोक हैं। इस अध्याय में भगवान कृष्ण अर्जुन के अनुरोध पर अपना सार्वभौमिक रूप धारण करते हैं। Read also:- 1. Bhagwat Geeta in… Read More »Bhagavad Geeta Hindi ( Vishwaroopa Darshana Yoga ) | अध्याय ग्यारहवाँ — विश्वरूपदर्शनयोग

              Shrimad Bhagavad Geeta

              Bhagavad Geeta ( Vibhooti Yoga ) | अध्याय दसवाँ — विभूतियोग

                Bhagavad Geeta: विभूति योग गीता का दसवां अध्याय है और इसमें 42 श्लोक हैं। इस लेख में, कृष्ण ने अर्जुन को सभी तात्विक और आध्यात्मिक अस्तित्व के अंत का कारण समझाया है।… Read More »Bhagavad Geeta ( Vibhooti Yoga ) | अध्याय दसवाँ — विभूतियोग

                Shrimad Bhagavad Geeta

                Bhagavad Geeta ( Raja Vidya Raja Guhya Yoga ) | अध्याय नौवाँ — राजविद्याराजगुह्ययोग

                  Shrimad Bhagvad Geeta in Hindi: राजविद्याराजगुह्य योग गीता का नौवां अध्याय है, जिसमें 34 श्लोक हैं। इसमें कहा गया है कि श्री कृष्ण की आंतरिक ऊर्जा ब्रह्मांड में व्याप्त है, वहीं ब्रह्मांड का सृजन… Read More »Bhagavad Geeta ( Raja Vidya Raja Guhya Yoga ) | अध्याय नौवाँ — राजविद्याराजगुह्ययोग

                  Shrimad Bhagavad Geeta

                  Bhagwat Geeta ( AksharBrahmaYog) | अध्याय आठवाँ — अक्षरब्रह्मयोग

                    गीता का आठवां अध्याय अक्षरब्रह्मयोग है, जिसमें 28 श्लोक हैं। कृष्ण इस अध्याय में मरने से पहले अंतिम विचार का महत्व बताते हैं। यदि हम… Read More »Bhagwat Geeta ( AksharBrahmaYog) | अध्याय आठवाँ — अक्षरब्रह्मयोग