Skip to content

Harad Benefits: हरड़ खाने से हो सकते हैं ये फायदे जानिए कैसे करना चाहिए सेवन

हरड़ खाने के फायदे और नुक्सान

हरड़ खाने के फायदे और नुक्सान : हरड़ एक प्राकृतिक जड़ी-बूटी है जो हमारे शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद होती है। यह शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होती है और इसमें (Hadad) भरपूर मात्रा में एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं। हरड़ को इंग्लिश में कई तरह से लिखा जाता है जैसे कि Hadad, Harad या Hadat. इस लेख में हम harad kya hai, harad powder benefits, harad for constipations, harad for skin whitening आदि को विस्तार से समझायेंगे, लेकिन आप कुछ भी करने से पहले किसी योग्य डॉक्टर से परामर्श ज़रूर लें।

Harad or Haritaki Benefits in Hindi: हरड़ का उपयोग प्राचीन काल से ही औषधियों में किया जाता रहा है, ये एक तरह की आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है, जिसका उपयोग त्रिफला चूर्ण बनाने में भी किया जाता है। 

Harad or Haritaki Benefits in Hindi

Q. हरड़ क्या होता है?
Ans. हरीतकी (वानस्पतिक नाम:Terminalia chebula) एक ऊँचा वृक्ष होता है एवं भारत में विशेषतः निचले हिमालय क्षेत्र में रावी तट से लेकर पूर्व बंगाल-आसाम तक पाँच हजार फीट की ऊँचाई पर पाया जाता है। हिन्दी में इसे ‘हरड़’ और ‘हर्रे’ भी कहते हैं। आयुर्वेद ने इसे अमृता, प्राणदा, कायस्था, विजया, मेध्या आदि नामों से जाना जाता है।

Source: Wikipedia

यह बहुत सारे स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्रदान करता है। इसे हरीटकी नाम से भी जाना जाता है। इसका नियमित उपयोग करने से जीवनकाल बढ़ जाता है। आयुर्वेद में इसका उपयोग विभिन्न रोगों के इलाज में किया जाता है। 

हरड़ का उपयोग बुखार, पेट में फूलन, उल्टी, पेट की गैस और पाइल्स जैसी समस्याओं को भी दूर करने में किया जाता है।  

आप ये हिंदी सकते हैं Benefits of folic acid in Hindi | फोलिक एसिड के लाभ

हरड़ खाने के फायदे और नुक्सान क्या हैं।

हरड़ खाने के फायदे (Harad Benefits in Hindi) 

हरड़ खाने के फायदे और नुक्सान लेख में हम पहले हरड़ एक आयुर्वेदिक औषधि है जो टर्मिनलिया चेबुला नामक पेड़ के फल से बनती है। यह एक गुणकारी औषधि है जिसमें कई औषधीय गुण होते हैं। हरड़ के फायदे निम्नलिखित हैं:

पाचन संबंधी समस्याओं में फायदेमंद: हरड़ पाचन संबंधी समस्याओं जैसे कब्ज, अपच, दस्त, गैस, एसिडिटी आदि में फायदेमंद है। यह पाचन तंत्र को मजबूत बनाता है और भोजन को पचाने में मदद करता है।

पेट की समस्याओं में लाभदायक: हरड़ पेट संबंधी समस्याओं जैसे अल्सर, गैस्ट्र्रिटिस, बवासीर आदि में फायदेमंद है। यह पेट में दर्द, जलन, सूजन आदि को कम करने में मदद करता है।

त्वचा संबंधी हरड़ के फायदे (harad for skin whitening): हरड़ त्वचा संबंधी समस्याओं जैसे मुंहासे, दाद, खाज, खुजली आदि में फायदेमंद है। यह त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाने में मदद करता है।

बालों से जुड़ी समस्याओं में फायदेमंद: हरड़ बालों संबंधी समस्याओं जैसे बालों का झड़ना, बालों का रूखापन, बालों का सफेद होना आदि में फायदेमंद है। यह बालों को मजबूत और स्वस्थ बनाने में मदद करता है।

आंखों के लिए हरड़ के फायदे: हरड़ आंखों संबंधी समस्याओं जैसे मोतियाबिंद, नेत्रश्लेष्मलाशोथ, आंखों में जलन आदि में फायदेमंद है। यह आंखों की रोशनी बढ़ाने और आंखों को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

हरड़ सर्दी-खांसी में फायदेमंद: हरड़ सर्दी-खांसी में फायदेमंद है। यह खांसी, सर्दी, जुकाम, गले में खराश आदि को दूर करने में मदद करता है।

हरड़ वजन घटाने में करें मदद: हरड़ वजन घटाने में फायदेमंद है। यह भूख को कम करने में मदद करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है।

हरड़ मधुमेह को करें नियंत्रित : हरड़ मधुमेह में फायदेमंद है। यह रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

ब्रेन बूस्टर है हरड़: हरड़ का उपयोग एक तरह की ब्रेन बूस्टर के रूप में किया जा सकता है। हरड़ के फल, पत्ते और छाल में मौजूद फेनोलिक यौगिकों के कारण यह शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट लाभ प्रदान करते हैं। हरड़ का अर्क न केवल बैक्टीरिया को मारता है, बल्कि यह शरीर में ऑक्सीकरण एंजाइम को भी रोकता है। इससे सूजन कम होती है और मस्तिष्क स्वस्थ रहता है। यह इसके काम काज में तेजी लाता है।  

कैंसर के खतरे को कम करने में मददगार: शोधों से पता चला है कि हरड़ कैंसर के खतरे को कम करने में मददगार हो सकता है। हरड़ में एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद करते हैं।

स्टेमिना और यौन क्षमता को बढ़ाएं: हरड़ यौन क्षमता को बढ़ाने में महिलाओं और पुरुषों के लिए बहुत उपयोगी हो सकता है। यह तनाव और चिंता को कम करने का मदद कर सकता है और यौन इच्छा को बढ़ा सकता है। इसके अलावा, यह प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है, कई प्रजनन समस्याओं का उपचार कर सकता है और पुरुषों में वीर्य की गुणवत्ता और शक्ति को बढ़ा सकता है।  

हरड़ के ज्यादा सेवन से हो सकते है यह नुक्सान

हरड़ के कुछ नुक्सान भी हैं। हरड़ का अधिक मात्रा में सेवन करने से निम्नलिखित समस्याएं हो सकती हैं:

  • पेट में दर्द
  • उल्टी
  • दस्त
  • पेट में सूजन
  • सिर दर्द
  • मतली

गर्भवती महिलाओं को हरड़ का सेवन करने से बचना चाहिए।

हरड़ का सेवन कैसे करें | How to use Harad in Hindi

हरड़ का सेवन कई तरीकों से किया जा सकता है। जो निम्नलिखित है:

  1. हरड़ का चबाकर सेवन: हरड़ को चबाकर खाने से पाचन संबंधी समस्याओं में फायदा होता है। हरड़ को चबाने से लार का स्राव होता है, जो पाचन में मदद करता है।

2. हरड़ का चूर्ण (Harad powder) बनाकर सेवन: हरड़ चूर्ण का सेवन निम्नलिखित चीजों के साथ किया जा सकता है:

  • शहद: शहद के साथ हरड़ चूर्ण का सेवन करने से पाचन क्रिया में सुधार होता है और कब्ज की समस्या दूर होती है।
  • दूध (Harad with milk): दूध के साथ हरड़ चूर्ण का सेवन करने से खांसी और जुकाम में आराम मिलता है।
  • गुड़: गुड़ के साथ हरड़ चूर्ण का सेवन करने से मधुमेह में लाभ होता है।
  • अदरक: अदरक के साथ हरड़ चूर्ण का सेवन करने से दस्त और उल्टी में आराम मिलता है।
  • नींबू: नींबू के साथ हरड़ चूर्ण का सेवन करने से अपच और गैस की समस्या दूर होती है।

हरड़ चूर्ण का सेवन करने की सही मात्रा और समय आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा निर्धारित की जानी चाहिए। आमतौर पर, हरड़ चूर्ण का सेवन 2-5 ग्राम की मात्रा में दिन में दो बार किया जाता है।

3. हरड़ का काढ़ा बनाकर सेवन: हरड़ का काढ़ा बनाकर पीने से सर्दी-खांसी, अल्सर, गैस्ट्र्रिटिस आदि में फायदा होता है। हरड़ का काढ़ा बनाने के लिए 2-3 हरड़ को एक गिलास पानी में उबाल लें। पानी आधा रह जाने पर काढ़ा छानकर पी लें।

4. हरड़ के लड्डू बनाकर सेवन: हरड़ के लड्डू बनाकर खाने से भी पाचन संबंधी समस्याओं में फायदा होता है। हरड़ के लड्डू बनाने के लिए 100 ग्राम हरड़ का चूर्ण, 50 ग्राम मिश्री, 50 ग्राम गाय का घी और 50 ग्राम बादाम को पीसकर लड्डू बना लें।

हरड़ चूर्ण का सेवन करते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना चाहिए:

  • हरड़ चूर्ण का सेवन खाली पेट नहीं करना चाहिए।
  • हरड़ चूर्ण का अधिक मात्रा में सेवन करने से पेट दर्द, उल्टी, और दस्त जैसी समस्याएं हो सकती हैं।
  • गर्भवती महिलाओं और बच्चों को हरड़ चूर्ण का सेवन करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।
  • जिन्हें पित्त की समस्या है, उन्हें भी हरड़ चूर्ण का सेवन करने से बचना चाहिए।

इस आज के लेख में आपको भी वह सभी समस्याओं के बारे में बताया गया है जिनमें हरीतकी का उपयोग कारगर साबित हो सकता है। यदि आप भी हरड़ खाने के फायदे चाहते हैं तो आपको लेख में बताए गए तरीकों का पालन करना चाहिए, लेकिन ध्यान दें कि यह समस्याओं को सिर्फ कम कर सकते हैं, पूरी तरह से ठीक नहीं कर सकते।  

यह व्यक्ति को बीमारी से बचा सकते है। लेकिन किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या के लिए डॉक्टर से परामर्श लें। हमारी वेबसाइट Lifewingz के साथ बने रहें ताकि आप इसके अलावा और आर्टिकल पढ़ सकें।   
 

नोट: हरड़ बहुत प्रभावी आयुर्वेदिक औषधि है और इसे विटामिन सी का अच्छा स्रोत माना जाता है। यह शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद करता है। शरीर के पेट सम्बंधी कई समस्याओं में भी इसका उपयोग फायदेमंद साबित हो सकता है। हालांकि, हरड़ गर्म तासीर की होती है, इसलिए आपको यह सलाह दी जाती है कि इसका उपयोग आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह से ही करें।  

इमेज सोर्स : wiki

Author

  • Minakshi Verma

    मैं, मिनाक्षी वर्मा, पेशे से हिंदी ब्लॉगर हूँ और इस क्षेत्र में मुझे काफी अनुभव हो चुका है। मैं  डाइट-फिटनेस, धार्मिक कथा व्रत, त्यौहार, नारी शक्ति आदि पर लिखती हूँ। इसके इलावा फूड, किड्स बुक्स, और महिलाओं के फैशन के बारे में लिखना मेरे पसंदीदा विषय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *