Skip to content

Shani ki sade sati ke upay: साढ़े साती से राहत पाने के लिए हर शनिवार को करें, ये 10 सरल उपाय

Shani ki sade sati ke upay

Shani ki sade sati ke upay: ज्योतिष शास्त्र में शनि देव को कर्म का देवता बताया गया है। जिन लोगों के जीवन पर शनि देव का शुभ प्रभाव पड़ता है, वे कई प्रकार की सुख-सुविधाओं का वरदान पाते हैं। जिन लोगों में शनि की साढ़ेसाती है, वे कई चुनौतियों का सामना करते हैं। राहु से हैं परेशान तो जरूर करें ये उपाय Kharab Rahu Grah Upay

Shri Shani Chalisa: साढेसाती और शनि दशा में नियमित करें श्री शनि चालीसा पाठ


Shani ki sade sati ke upay: शनिवार को न्याय के देवता माने जाने वाले शनि देव की पूजा के लिए समर्पित सबसे शुभ दिन माना जाता है। शनि देव की कृपा पाने के लिए भक्त इस दिन विभिन्न अनुष्ठान और अभ्यास करते हैं। इसके अतिरिक्त, शनिवार का दिन शनि की ढैय्या और साढ़े साती के कारण होने वाले कष्टों को कम करने की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। गौरतलब है कि साढ़े साती शनि की ग्रह दशा को संदर्भित करती है, जो साढ़े सात साल की अवधि तक चलती है।

भारतीय ज्योतिष के अनुसार, साढ़े साती एक ऐसा चरण है जो किसी व्यक्ति के जीवनकाल में कम से कम एक या कई बार प्रकट होता है, जो इसे उनके भाग्य का एक महत्वपूर्ण पहलू बनाता है।

ज्योतिषियों का मानना ​​है कि शनि साढ़े साती का अनुभव करने वाले व्यक्तियों को शारीरिक, मानसिक और वित्तीय चुनौतियों सहित अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। इसके अतिरिक्त, ज्योतिष कुछ ऐसी गलतियों पर प्रकाश डालता है, जिन्हें दोहराने पर शनि से जुड़े प्रतिकूल परिणाम हो सकते हैं। नतीजतन, शनि साढ़े साती से गुजर रहे व्यक्तियों को शनि देव को प्रसन्न (Shani ki sade sati ke upay) करने के लिए विशिष्ट उपाय अपनाने की सलाह दी जाती है। 

आइए शनि देव की कृपा पाने के लिए कुछ सरल उपाय जानें।

1. शनि देव व्यक्तियों को उनके कर्मों के आधार पर फल देते हैं और दान करना एक धार्मिक कर्म के रूप में देखा जाता है। इसलिए शनिवार के दिन लोहा, काली उड़द की दाल, काले तिल या काला कपड़ा जैसी वस्तुएं दान करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं।

2. साढ़े साती के प्रभाव से राहत पाने के लिए शनिवार के दिन किसी भी शनि मंदिर में जाकर सरसों के तेल में काले तिल और एक लोहे की कील मिलाकर शनि देव को अर्पित करें।

3. सुबह स्नान करने के बाद पीपल को जल चढ़ाएं। इसके अतिरिक्त, सात परिक्रमा करें। सूर्यास्त के बाद एक सुनसान जगह पर पीपल के पास दीपक जलाएं। यदि ऐसा नहीं है, तो मंदिर में लगे पीपल के पास भी दीपक जलाया जा सकता है।

4. शनिवार को सूर्यास्त के समय काले घोड़े की नाल या नाव की कील से एक अंगूठी बनाकर अपनी मध्यमा उंगली में धारण करें। यह आपको शनि से संबंधित बाधाओं से बचाता है।

5. हनुमान जी की पूजा करने से भी शनि देव प्रसन्न होते हैं। इसलिए हनुमान चालीसा हर दिन पढ़ना चाहिए। चिड़िया को हर दिन दाना और पानी भी अवश्य देना चाहिए।

6. प्रत्येक दिन मजबूर और लाचार लोगों को सामर्थ्य अनुसार दान करें, तो शनि देव शांत रहते हैं और आप पर अपना बुरा प्रभाव नहीं डालते।

7. बंदरों को गुड़ और चना खिलाने से हनुमानजी प्रसन्न होते हैं। हर शनिवार हनुमान चालीसा पढ़ें। हनुमान जी का पूजन करने से शनि दोष नहीं लगते।

8. शनिदेव की पूजा करें और उन्हें नीले फूल चढ़ाएं। इसके साथ ही रुद्राक्ष की माला से इस शनि मंत्र “ऊँ शं शनैश्चराय नमः” का 108 बार जाप करें। ऐसा प्रत्येक शनिवार को करने से साढ़ेसाती से मुक्ति मिलती है।

9. शनि देव भी भगवान शिव की पूजा करते थे। ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव की पूजा करने से भी शनि देव प्रसन्न होते हैं। भगवान शिव और शनि देव की कृपा पाने के लिए आप शिव के पंचाक्षर मंत्र “ॐ नमः शिवाय” का भी जाप कर सकते हैं।

10. तांबे के लोटे में जल डालकर काले तिल डालें। इसके बाद शिवलिंग पर जल चढ़ाएं। ऐसा करने से व्यक्ति सभी बीमारियों से छुटकारा पाएगा और भोलेनाथ की कृपा से धन की कमी दूर होगी।


— शनि साढ़ेसाती के दौरान रात्रि के समय यात्रा सावधानी पूर्वक करें।

— मंगलवार और शनिवार को भूलकर भी शराब और मांस का सेवन न करें।

— ड्राइविंग ध्यान से करें।

— कोई भी जोखिम भरा कार्य न करें।

— माता-पिता की सेवा करें, सबका सम्मान करें।

— रात के समय अकेले यात्रा करने से बचना चाहिए।

— शनि मंत्र का जाप करें।

— शनिवार और मंगलवार को काले कपड़े या चमड़े का सामान खरीदने से बचें।

— किसी भी तरह के अवैध या गलत कामों में हिस्सा लेने से बचें।


दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में आपने जाना कि शनि साढ़े साती के उपाय  (Shani sade sati ke  upay) क्या है? शनि साढ़ेसाती के (Shani sade sati) कारण किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? हमें यकीन है कि आप इस लेख में बताए गए शनि साढ़े साती के उपाय समझ गए होंगे। अगर आपका कोई सवाल है तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करें। इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें। ऐसे और लेख पढ़ने के लिए Lifewingz.com से जुड़े रहें।
धन्यवाद!

Image credit:- Canva

Author

  • Minakshi Verma

    मैं, मिनाक्षी वर्मा, पेशे से हिंदी ब्लॉगर हूँ और इस क्षेत्र में मुझे काफी अनुभव हो चुका है। मैं  डाइट-फिटनेस, धार्मिक कथा व्रत, त्यौहार, नारी शक्ति आदि पर लिखती हूँ। इसके इलावा फूड, किड्स बुक्स, और महिलाओं के फैशन के बारे में लिखना मेरे पसंदीदा विषय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *