Skip to content

Kharab Rahu Grah Upay: राहु दोष दूर करने के लिए करें ये 10 आसान उपाय, दूर होंगी बाधाएं

Rahu Grah Upay

Kharab Rahu Grah Upay: यदि राहु खराब स्थिति (rahu ki mahadasha) में हो तो यह व्यक्ति के जीवन में उथल-पुथल मचाने की क्षमता रखता है। हालाँकि, ऐसे कई उपाय (rahu grah ke upay) और मंत्र हैं जिन्हें अपनाकर राहु को मजबूत (rahu ko majboot kaise kare) किया जा सकता है और इसके नकारात्मक प्रभावों को कम किया जा सकता है। 

आज के लेख में हम आपके साथ राहु के लक्षण (rahu kharab hone ke lakshan) और उपाय साझा कर रहे हैं। आप घर पर ही राहु को शांत करने के घरेलू उपाय आसानी से कर सकते हैं।

ज्योतिष में राहु को एक क्रूर ग्रह के रूप में जाना जाता है और इसे छाया ग्रह माना जाता है। जब किसी की कुंडली में राहु का प्रभाव होता है, तो उन्हें अपने जीवन में दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं और नकारात्मक परिस्थितियों का अनुभव हो सकता है। व्यक्ति को बुरे सपने, शारीरिक कमजोरी और आलस्य बना रहता हैं। राहु के नकारात्मक प्रभावों का प्रतिकार करने के लिए हम कुछ विशिष्ट उपाय बता रहे हैं जो लाभकारी हो सकते हैं।

जब आकाशीय ग्रह राहु नकारात्मक स्थिति में होता है या पीड़ित होता है, तो यह विभिन्न लक्षण प्रकट कर सकता है जो किसी व्यक्ति के जीवन को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकते है। जैसे:-

—  ख़राब राहु व्यक्ति के शारीरिक स्वास्थ्य पर भी असर डाल सकता है।

— राहु के नकारात्मक प्रभाव का अनुभव करने वाले व्यक्ति नींद संबंधी विकार, पाचन संबंधी समस्याएं या थकान से पीड़ित हो सकते हैं। 

—  ख़राब राहु व्यक्ति को मानसिक तनाव दे सकता है। 

— नकारात्मक राहु के प्रभाव के कारण आर्थिक नुकसान भी होता रहता है। 

— नकारात्मक राहु के प्रभाव में आने वाले लोगों को कई असफलताओं और कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है

— छोटी छोटी बातों पर बहुत गुस्सा आना। 

— स्वयं को लेकर गलतफहमी होना।

— इसके अलावा, लोग लोगों से घिरे होने के बावजूद लगातार खालीपन या अकेलेपन का एहसास महसूस कर सकते हैं। 

Read also:- Budhwar Ke Upay: बुधवार को करें ये 7 सरल उपाय, जीवन की सभी समस्याओं से मिलेगा छुटकारा

यदि राहु की स्थिति प्रतिकूल हो तो इसका व्यक्ति के जीवन पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है, जिससे विनाश और विभिन्न प्रकार के तनाव का सामना करना पड़ सकता है। हालाँकि, कुछ उपाय और मंत्र हैं जिनका उपयोग राहु की शक्ति और सकारात्मक प्रभाव को बढ़ाने के लिए किया जा सकता है।

1. कुंडली में राहु की अशुभ स्थिति को दूर करने के लिए प्रत्येक सोमवार और शनिवार को शिवलिंग पर जल चढ़ाएं और काले तिल अर्पित करें। इस उपाय को करने से भगवान शिव की कृपा भी आपको प्राप्त होगी।

2. राहु दोष से मुक्ति के लिए शनिवार के दिन तांबे के बर्तन में जल, कुशा और दूर्वा रखें। स्नान के बाद इस जल को किसी पीपल के पेड़ की जड़ में डाल दें। यह उपाय लगातार सात शनिवार तक करने से अद्वितीय लाभ मिलेगा।

3. राहु को मजबूत करने के लिए पक्षियों, काले कौओं और कबूतरों आदि को रोजाना 7 प्रकार के अनाज मिलाकर खिलाएं।

4. राहु को मजबूत करने के लिए हर अमावस्या के दिन शाम के समय या रात 12 बजे पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाएं।

5. राहु को बेहतर करने के लिए राहु स्तोत्र या राहु कवच का पाठ करें।

6. राहु से पीड़ित व्यक्ति को गोमेद रत्न धारण करना चाहिए या दाहिने हाथ में अष्टधातु का कड़ा धारण करना चाहिए।

7. राहु के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए सिरहाने के नीचे जौ रखकर सोएं और सुबह उठकर इसका दान करें।

8.  राहु को मजबूत करने के लिए प्रतिदिन काले कुत्ते को रोटी खिलाएं।

9. राहु से पीड़ित व्यक्तियों को नीले रंग के वस्त्र पहनने चाहिए। राहु दोष से बचने और राहु दोष से छुटकारा पाने के लिए मांस और शराब के सेवन से बचना चाहिए।

10. राहु के नकारात्मक प्रभाव को कम करने के लिए आप अपने पास मोर पंख भी रख सकते हैं।

राहु दोष के नकारात्मक प्रभावों का प्रतिकार करने के लिए बहुत से शक्तिशाली और प्रभावी मंत्र है, यह मंत्र राहु के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए एक दिव्य उपाय के रूप में कार्य करते है और सद्भाव, सफलता और समग्र कल्याण को बढ़ावा देते है। माना जाता है कि जब नियमित रूप से इन मंत्रों का जाप किया जाता है, तो यह भगवान राहु का आशीर्वाद प्राप्त करवा सकते है। 

1. सुबह स्नान करने के बाद “ॐ रां राहवे नमः” मंत्र का जाप 108 बार करना चाहिए। ऐसा करना आपके लिए अत्यंत शुभ फलदायी और प्रभावशाली माना जाता है।

2. राहु वैदिक मंत्र “ऊँ कयानश्चित्र आभुवदूतीसदा वृध: सखा। कयाशश्चिष्ठया वृता” इस मंत्र का जाप 108 बार करें। 

3. राहु महादशा निवारण हेतु राहु बीज मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र – “ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः!”

4. राहु को बेहतर करने के लिए इस मंत्र का जाप करें। “ऊँ ह्रीं ह्रीं राहवे नम:!”

राहु के प्रभाव की अवधि के दौरान, खुद को खतरे से बचाने के लिए किसी मंत्र का जोर से और सटीक उच्चारण करना महत्वपूर्ण है। राहु के नकारात्मक प्रभाव से विवेक और बुद्धि में कमी आ सकती है, जिससे व्यक्ति गलत निर्णय ले सकता है। इस समय के दौरान व्यक्ति के प्रियजनों को सहायता प्रदान करना और राहु के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए निवारक उपाय करना महत्वपूर्ण है।

राहु को प्रसन्न करने और शांति करने के लिए, लोहे के हथियार, नीला कपड़ा, कंबल, लोहे की चादरें, तिल, सरसों का तेल, बिजली के उपकरण, नारियल और मूली सहित विभिन्न प्रकार की वस्तुओं का उदारतापूर्वक दान करना चाहिए।

राहु के उपाय और पूजा के लिए शनिवार का दिन सर्वोत्तम माना गया है।


राहु को मजबूत बनाने के लिए आप यह उपाय कर सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे फेसबुक पर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट Lifewingz.com से जुड़े रहें।

Image credit:- Canva

Author

  • Minakshi Verma

    मैं, मिनाक्षी वर्मा, पेशे से हिंदी ब्लॉगर हूँ और इस क्षेत्र में मुझे काफी अनुभव हो चुका है। मैं  डाइट-फिटनेस, धार्मिक कथा व्रत, त्यौहार, नारी शक्ति आदि पर लिखती हूँ। इसके इलावा फूड, किड्स बुक्स, और महिलाओं के फैशन के बारे में लिखना मेरे पसंदीदा विषय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *