Skip to content

Bedroom Vastu Tips: शयनकक्ष में क्यों न रखें चीजें ? जानें बेडरूम के 10 महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स

Vastu tips for bedroom

Bedroom Vastu Tips: शयनकक्ष एक ऐसी जगह है जहां आप सुकून से आराम कर सकते हैं और सो सकते हैं। बहुत से लोग अपने दिन का लगभग एक तिहाई समय अपने शयनकक्ष में बिताते हैं। घर में मुख्य शयनकक्ष (Vastu for master bedroom) दक्षिण-पश्चिम की ओर होना चाहिए, जो स्थिरता का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसे ही और Bedroom vastu tips जानने के लिए पूरा लेख पढ़ें। साथ ही जाने kitchen vastu tips जो कर सकते है आपकी किचन के वास्तु को ठीक। 

Bedroom Vastu Tips in Hindi: आजकल लोग अपने घरों को लेटेस्ट ट्रेंड और डिजाइन के मुताबिक बनाने और सजाने में दिलचस्पी रखते हैं। लोग अपने घरों को अपनी पसंद के अनुसार सजाने का आनंद लेना चाहते हैं। विशेष रूप से अपने शयनकक्ष को, शयनकक्ष घर के उन कमरों में से एक है जहां हर कोई आराम करना चाहता है, रात की अच्छी नींद लेना चाहता है और काम पर लंबे दिन के बाद कुछ समय अकेले बिताना चाहता है।

वास्तु में दिशाओं का बहुत महत्व है। यह शास्त्र इस बात पर निर्भर करता है कि किसी भी दिशा से आने वाली ऊर्जा आपको किस प्रकार लाभ पहुंचा सकती है। वास्तु में हर जगह और कमरे के लिए एक निश्चित स्थान बताया गया है। बेडरूम घर का सबसे अहम हिस्सा होता है। आइए हम आपको बताते हैं कि आपका बेडरूम कैसा होना चाहिए ताकि आपके जीवन में हमेशा खुशियां बनी रहें।

हमारे घर में हमारे लिए सबसे जरूरी कमरा होता है हमारा बेडरूम। इसका सुकून और शांतिभरा होना जरूरी है। कई बार सुख-सुविधाओं से भरपूर शयनकक्ष होने से व्यक्ति को रात की आरामदायक नींद नहीं मिल पाती है।

कोई तनाव न होने पर भी अगर आप शांति से नहीं सो पाते हैं, तो इसका कारण यह हो सकता है कि शयनकक्ष गलत स्थान पर बनाया गया है। आइए जानते है बैडरूम किस दिशा में bedroom vastu tips in hindi) होना चाहिए, बेड कहां लगाना चाहिए और वार्डरोब कौन सी दिशा में होनी चाहिए। 

1. वास्तु के (Vastu tips for bedroom) अनुसार, मास्टर बेडरूम घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में या उत्तर-पश्चिम की ओर होना चाहिए। 

2. बेडरूम का प्रवेश द्वार उत्तर, पश्चिम या पूर्व दिशा में होना चाहिए। साथ ही बेडरूम के दरवाजे सिंगल होने चाहिए।

3. बेडरूम में खिड़कियों का सर्वोत्तम स्थान उत्तर और पूर्व दिशा में है। ध्यान रखें कि घर की पूर्व और उत्तर की दीवारों पर अधिक खिड़कियां होनी चाहिए। यदि आपके बेडरूम में खिड़कियाँ दक्षिण या पश्चिम की ओर हैं, तो आपको उन्हें पर्दों से ढककर रखना चाहिए।

4.  बेडरूम में पलंग (Best direction for bed) सबसे महत्वपूर्ण चीज है। वास्तु के अनुसार पलंग को दक्षिण या दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखना सबसे अच्छा होता है। पलंग दक्षिणी दीवार के साथ होना चाहिए और जब आप सोएं तो आपका सिर दक्षिण की ओर (Best direction to sleep) और पैर उत्तर की ओर होने चाहिए। ध्यान रहे पलंग दीवार के एकदम बीच में होना चाहिए। यही पलंग की बिल्कुल सही दिशा है।

5. अलमारी को (Vastu tips for almirah) दक्षिण या पश्चिम की दीवारों के साथ रखा जा सकता है। इसके दरवाजे पूर्व या उत्तर की ओर खुलने चाहिए।

6. ड्रेसिंग टेबल दक्षिण या पश्चिम में होना चाहिए। जितना हो सके दर्पण को ढककर रखना चाहिए। सोते समय इसमें चेहरा नहीं दिखना चाहिए क्योंकि इससे स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है।

7. वास्तु सिद्धांतों के अनुसार, शयनकक्ष में टीवी जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण रखने से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि ये नींद में खलल डाल सकते हैं और ऊर्जा खत्म कर सकते हैं। हालाँकि, यदि टीवी को शयनकक्ष से हटाना संभव नहीं है, तो इसे दक्षिण-पूर्व दिशा में रखा जाना चाहिए। 

इसके अलावा, टीवी बिस्तर के सामने नहीं होना चाहिए। क्योंकि सोते हुए व्यक्ति का प्रतिबिंब टीवी स्क्रीन पर दिखना भी अशुभ माना जाता है, इसलिए जरूरत पड़ने पर रात के समय टीवी को कपड़े से ढकने की सलाह दी जाती है।

8. शयनकक्ष में झाड़ू, जूते, चप्पल, बिजली का सामान, टूटे व आवाज करने वाले पंखे, क्षतिग्रस्त वस्तुएं, फटे-पुराने कपड़े या प्लास्टिक की वस्तुएं न रखें।

9. आजकल अटैच टॉयलेट का चलन है। लेकिन वास्तु के अनुसार शयनकक्ष में शौचालय के लिए कोई जगह नहीं होती है। फिर भी यदि अटैच्ड टॉयलेट बनवाना हो तो उसकी दिशा दक्षिण दिशा में होनी चाहिए।

10. बेड के बायीं और दायीं तरफ खुली जगह रखें। कमरे में बेड इस तरह से लगा हुआ हो कि दोनों तरफ से इस्तेमाल में लाया जा सके। बेड के किसी एक साइड को दीवार से सटाकर न रखें। हालाँकि, बच्चों के लिए, आप बिस्तर को दीवार से सटाकर रख सकते हैं।

चलिए, अब जानते है बेडरूम किस दिशा में नहीं होना चाहिए। 

Read also:- Vastu for pooja room – जानिए कैसा और किस दिशा में होना चाहिए पूजा घर

— बेडरूम उत्तर-पूर्व दिशा में नहीं होना चाहिए क्योंकि यह देवताओं का स्थान है। और इस दिशा में बेडरूम 

होने से आर्थिक हानि और दुखों का सामना करना पड़ता है।

— शयनकक्ष दक्षिण-पूर्व में नहीं होना चाहिए क्योंकि यह दिशा अग्नि कोण है जो आक्रामक प्रवृत्ति से संबंधित है।

— घर के मध्य भाग में शयन कक्ष उपयुक्त नहीं माना जाता है क्योंकि इस भाग को ब्रह्म स्थान के रूप में जाना जाता है।

— बिस्तर के सामने शीशा न लगाएं।

— बेडरूम में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण न रखें।

— बेडरूम में गंदगी या अव्यवस्थित सामान न रखें।

— बेडरूम की दीवार को रंगने के लिए सफेद, मिट्टी के रंग या क्रीम जैसे हल्के रंगों का उपयोग करना सबसे सही है। 


आप अपने शयनकक्ष की व्यवस्था के लिए इन आसान युक्तियों का पालन करके अपने घर को एक खुशहाल और समृद्ध स्थान बना सकते हैं। हमारा मानना ​​है कि अपने शयनकक्ष में छोटे-छोटे बदलाव करने से आपके जीवन पर बड़ा प्रभाव पड़ सकता है। 

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो कृपया इसे शेयर करें और इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट Lifewingz पर आते रहें।

Image credit:- Canva

Author

  • Minakshi Verma

    मैं, मिनाक्षी वर्मा, पेशे से हिंदी ब्लॉगर हूँ और इस क्षेत्र में मुझे काफी अनुभव हो चुका है। मैं  डाइट-फिटनेस, धार्मिक कथा व्रत, त्यौहार, नारी शक्ति आदि पर लिखती हूँ। इसके इलावा फूड, किड्स बुक्स, और महिलाओं के फैशन के बारे में लिखना मेरे पसंदीदा विषय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *