Skip to content

Best direction to sleep: क्या आप जानते हैं कि आपके सोने की दिशा आपके लिए खड़ी कर सकती है परेशानियां ?

Best direction to sleep


कई लोग वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों का पालन करते हैं, ताकि वे अपने घर को सुधार सकें और अपने जीवन को बेहतर बना सकें। वास्तुकला के लाभों को समझने के बाद अक्सर लोग इसका पालन करना शुरू कर देते हैं, यहां तक कि जो लोग इस पर ज्यादा विश्वास नहीं करते वे भी वास्तु के नियमों का पालन करते हैं।

वास्तु शास्त्र बिस्तर और सोने की दिशा को सही दिशा में रखकर सकारात्मक ऊर्जा को आमंत्रित कर सकता है। शयनकक्ष बनाते समय बिस्तर की स्थिति, कमरे का रंग और सोने की दिशा के लिए वास्तु नियमों का पालन करना महत्वपूर्ण है।

आइए जानते हैं कि वास्तु के अनुसार सोने की सही दिशा कौन सी है और बिस्तर के लिए कौन सी उचित दिशा है।


वास्तुशास्त्र के अनुसार सभी दिशाएँ सोने के लिए अच्छी नहीं हैं। क्योंकि प्रत्येक दिशा में अलग-अलग गुण होते हैं, जो हमारे जीवन को बहुत प्रभावित करते हैं आइए देखते हैं:

सूर्य इसी शीर्ष से निकलता है, इसलिए वास्तुशास्त्र के अनुसार पूर्वी दिशा ऊर्जा और शक्ति का भंडार है। इसलिए, यह सोने के लिए सर्वश्रेष्ठ दिशाओं में से एक है। इस दिशा में नींद अच्छी आती है और सुबह तरोताजा महसूस होता है। यह एकाग्रता को भी बढ़ाता है और पढ़ाई से जुड़ी याददाश्त को भी तेज करता है। इस तरह की सलाह छात्रों और शिक्षकों (शिक्षकों, प्रोफेसरों, अनुसंधान विद्वानों) को दी जाती है। इसे कम उम्र से ही बच्चों पर लागू करना सबसे अच्छा है क्योंकि यह उनके जीवन के शुरुआती चरण से ही उनकी प्रगति में मदद करेगा।

यह स्थिति पूर्व की तरह बहुत अच्छी नहीं है, लेकिन इसके कुछ फायदे जरूर हैं, इसलिए यह एक तरह से तंत्रिका संबंधी है। यदि आप अपने व्यवसाय या कार्यस्थल में सफलता चाहते हैं, तो इस दिशा में सोना सबसे अच्छा है। यह आपको जीवन में मिलने वाले सबसे अच्छे अवसरों को पाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह आपके आसपास की किसी भी नकारात्मक ऊर्जा को दूर करने में आपकी मदद कर सकता है। इसलिए कुछ लोगों को इस दिशा में सोने की सलाह दी जाती है।

यदि आप वास्तुशास्त्र में विश्वास करते हैं तो आपको उत्तर दिशा में सोने के वास्तुनियम जानना चाहिए। मृत शरीर को दाह संस्कार तक उत्तर दिशा की ओर सिर करके लिटा दिया जाता है। हिंदू धर्म भी मानता है कि आत्मा शरीर से बाहर निकलकर अगली दुनिया की ओर जाती है और अपने मार्ग के रूप में उत्तर की ओर जाती है।

तो भला कोई जीवित आदमी उत्तर की ओर सो सकता है? हम भी जानते हैं कि पृथ्वी का चुंबकीय ध्रुव उत्तर से दक्षिण तक है। मानव शरीर को चुंबकीय पट्टी से तुलना करने पर, सिर का ऊपरी भाग सकारात्मक चार्ज है, जबकि पैरों का निचला भाग नकारात्मक चार्ज है।

दक्षिण में नकारात्मक ध्रुव है और उत्तर में सकारात्मक ध्रुव है। शक्ति, दो सकारात्मक ध्रुवों से बनाई जाती है, जो कई तंत्रिका संबंधी बीमारियों और स्वास्थ्य खतरों का कारण बनती है। लंबे समय से किसी गंभीर बीमारी से छुटकारा पाने की कोशिश कर रहे लोगों को उत्तर दिशा में सिर करके सोने से रिकवरी में देरी होती है। इसलिए, वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि, उत्तर की ओर सिर करके सोने से आपको बुरे परिणाम मिल सकते हैं।

वास्तु विशेषज्ञों का कहना है कि यह दिशा सोने के लिए सबसे अच्छा स्थान है क्योंकि यह दिशा देवता यम का घर है, जो धन, खुशी और सकारात्मकता से जुड़ा हुआ है।

इसके अलावा, यह पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के साथ समन्वय बनाए रखता है, जो सकारात्मक कंपन को बढ़ावा देता है और नकारात्मक कंपन को दूर करता है। लोगों को अच्छी नींद लेने के लिए इस दिशा की सलाह दी जाती है, दक्षिण दिशा में सोना शुरू करने पर आपको बहुत अच्छा लगेगा।

Read also:- Bedroom Vastu Tips: शयनकक्ष में क्यों न रखें चीजें ? जानें बेडरूम के 10 महत्वपूर्ण वास्तु टिप्स

हममें से कई लोग अच्छे बिस्तर, गद्दे और तकिए में निवेश करके अपनी नींद को और अधिक आरामदायक बनाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। हम अपने घरों के विभिन्न क्षेत्रों, जैसे शयनकक्ष, रसोई और मंदिर के लिए इष्टतम दिशा निर्धारित करने के लिए वास्तु शास्त्र के विशेषज्ञों से भी परामर्श लेते हैं। हालाँकि, हम अक्सर वास्तु शास्त्र के अनुसार सोने की दिशा के महत्व (Best direction to sleep) को नजरअंदाज कर देते हैं।

वास्तु सिद्धांतों के अनुसार, यह अत्यधिक अनुशंसित है कि कमरे में बिस्तर दक्षिण-पश्चिम दीवार पर रखा जाए। यह सुनिश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि बिस्तर का मुख दरवाजे की ओर न हो। सोने की आदर्श स्थिति चाहने वाले जोड़ों के लिए, वास्तु सुझाव देता है कि सिर दक्षिण, दक्षिण-पूर्व या दक्षिण-पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए।

हालाँकि, उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने की सख्त मनाही है क्योंकि इससे संभावित रूप से तनाव और थकान की भावना पैदा हो सकती है। इस प्रकार, बिस्तर लगाने और सोने की स्थिति के संबंध में इन वास्तु दिशानिर्देशों का पालन करने से अधिक सामंजस्यपूर्ण और आरामदायक नींद का अनुभव मिल सकता है।

— अपने बिस्तर को इस प्रकार न रखें कि उसका मुख कमरे के किसी नुकीले कोने की ओर हो।

— बिस्तर के नीचे सामान रखने से बचें, इससे स्वस्थ ऊर्जा संचारित करने में मदद मिलेगी।

— कोशिश करें कि शयनकक्ष रसोई के ऊपर न हो, क्योंकि इससे रात की अच्छी नींद में बाधा आ सकती है।

— मन को शांत रखने के लिए दीवारों को हल्के रंग से रंगने की कोशिश करें।

— जब आप बिस्तर पर जाएं, तो अपने इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को दूर रखने का प्रयास करें।

—अपने पैरों को शयनकक्ष के दरवाजे की ओर करके न सोएं, क्योंकि इससे बुरे सपने आ सकते हैं।


निष्कर्ष: संक्षेप में कहें तो, नींद के दौरान आपके सिर की स्थिति आपकी नींद पर और आपके स्वास्थ्य पर भी प्रभाव डाल सकती है। वास्तु विशेषज्ञों का सुझाव है कि सोने के लिए सबसे अच्छी दिशाएँ दक्षिण और पूर्व हैं, पश्चिम एक उपयुक्त विकल्प है। हालाँकि, उत्तर की ओर सिर करके सोने की सलाह नहीं दी जाती है।

आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसे और भी वास्तु शास्त्र से संबंधित लेख पढ़ने के लिए Lifewingz.com को फॉलो करें।
धन्यवाद!

Written By:- Monika Sharma
Image Credit:- Canva

Author

  • Minakshi Verma

    मैं, मिनाक्षी वर्मा, पेशे से हिंदी ब्लॉगर हूँ और इस क्षेत्र में मुझे काफी अनुभव हो चुका है। मैं  डाइट-फिटनेस, धार्मिक कथा व्रत, त्यौहार, नारी शक्ति आदि पर लिखती हूँ। इसके इलावा फूड, किड्स बुक्स, और महिलाओं के फैशन के बारे में लिखना मेरे पसंदीदा विषय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *