कर्म का फल! Karm Ka Fal Hindi Poem

karm ka phal

दोस्तों, आज हम आपके लिए जो hindi mein poem लेकर आए है! उसका नाम है ” कर्म का फल ( karm ka fal )” इस हिंदी कविता में कवि ने कहा है कि हम जैसा कर्म करे गए हमे वैसा ही फल मिलता है! 

समय का पहिया चलता जाता है

कर्म के अनुसार फल मिलता जाता है

फल ना मिले तो फिक्र ना कर,



खुदा के यहां देर है

अंधेरे नहीं

आज नहीं तो कल

कर्म का फल मिलेगा जरूर,



और जो बुरा करे

उसे उसके हाल पर छोड़ दो

आज नहीं तो कल,

 

कर्म का हिसाब होता जरूर है

और सबको फल मिलता जरूर है,

अच्छे कर्म का फल अच्छा

बुरे कर्म का बुरा

फैसला आपका है,

 

ये जिंदगी आपकी है

करो जो करना है

बस कर्म करने से पहले

एक बार सोचना जरूर!

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। 

ये भी पढ़ें:-

1) कोरोना को हराना है! Hindi Mein Poem

2) ए खुदा तेरी कैसी खुदाई! Sad Poems in Hindi

3) अनकही बातें (Ankahi baatein) Hindi kavita

4) कठपुतली हिंदी कविता! Kathputli Poem in Hindi

5) मत करो खिलवाड़ प्रकृति से! Poem on Prakriti in Hindi


by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer
दोस्तों! ” कर्म का फल ( karm ka fal )” Hindi poem आपको कैसी लगी, अगर अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ शेयर करना ना भूलें और हमारी  अन्य Hindi poem, article, motivational story, quotes, thoughts, या inspiring poem इत्यादि पढ़ने के लिए हमें follow ज़रूर करें! 
धन्यवाद!

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.