घूंघट – Ghoonghat – Interesting story in hindi – Saas bahu ki kahani

saas bahu ki kahani

Saas bahu ki kahani जो आपने अपनी ज़िन्दगी में बड़ी पढ़ी और सुनी होगी। आज की हमारी हिंदी कहानी औरत पर है जो एक Emotional story है यह एक बहुत Interesting hindi story है।

अरे रानी ओर रानी सो रही हो क्या अभी तक? रानी की जेठानी जोर-जोर से चिला रही थी घर के आंगन में खड़े हो कर।।

रानी यानी मैं ! तभी मैं भागती हुई अपने कमरे से निकली ओर बोली दीदी आ गई मैं।।

जेठानी बोली रानी तुम्हारा नाम रानी है तुम रानी नहीं हो मैंने तुम्हे रात में ही समझाया था कि सुबह को जल्दी उठ जाना तुम्हारी मुंह दिखाई की रस्म है। मैंने बोला की दीदी रात को नींद ही नहीं आई जगह नई है और मन में थोड़ा डर था कि सुबह आंख नहीं खुली तो।।

रजनी दीदी हस्ती हुई बोली रानी मेरी प्यारी देवरानी जल्दी से घूंघट कर लो अगर माँ जी आ गई तो हंगामा हो जाएगा। मैंने  गुंघट किया ही था तभी माँ जी वाहा आगई ओर कड़कड़ाती आवाज में बोली चलो अब क्या यही  गपशप मारती रहोगी तुम दोनों।। 

हमने चलना  शुरू ही किया था तभी माँ जी ने रजनी दीदी के कंधे पर हाथ रखा और बोली पता है ना कहा से जाना है ओर कैसे जाना है।  माँ जी ने बोला की जब भी कोई बड़ा तुम्हारें सामने खड़ा हो तो हमेशा घूंघट में रहना ओर  कम से कम अपने बड़ों के सामने आना और बिना घूंघट के तो कभी नहीं।। 

रजनी दीदी कुछ बोली ही नहीं बस अपना सर हिला कर हाँ बोल दिया मैंने भी बस अपना सर हाँ  में हिलाया।।  माँ जी के जाने के बाद। मैने पूछा रजनी दीदी आप तो स्कॉलर हो ओर इन सब चीजों को कैसे निभाते हो।। 

रजनी दीदी मुस्कुराई ओर बोली की मैं थारे जेठ जी से बहुत प्यार करती हूं इसलिए अभी तक चुप-चाप सब चीज़े निभा रही हूं।।

मैं कुछ नहीं बोली और चुप-चाप रजनी दीदी के साथ घर के बहार वाले कमरे में जा कर बैठ गई वाहा पर एक पड़ोस कि आंटी जी बैठी थी वो बोली की यह  कैसे बहू आई है ससुर जी सामने खड़े है ओर ये यहां बैठी है।।


# ये भी देखें  : Bollywood Style Saree Online Shopping

bollywood replica sarees online shopping
bollywood replica sarees online shopping

मुझे कुछ समझ ही नहीं आया मतलब। रजनी दीदी बोली की आंटी जी अभी नई बहू है यहां के रीति रिवाज सीखने में थोड़ा समय लगेगा।।

रजनी दीदी मुझे वाहा से उठा कर मेरे कमरे में छोड़गी। 6 महीने यू ही छोटी-छोटी चिजो में बीत गए  फिर एक दिन मैं  राहुल के साथ साड़ी लेने गई।।

राहुल का फोन आया और वो दुकान से बाहर बात करने चला गया। साड़ी की दुकान पर में बेधड़क हो कर साड़ियां देख रही थी।। 

तभी साथ में बैठे हुए अंकल जी खांसे  एक बार फिर दो बार फिर 3 बार। मैने साड़ी वाले भैया से बोला के भैया इन अंकल जी को पानी दे दो बहुत खांसी हो रही है इन्हे,

अंकल जी भड़क उठे और बोले क्या बदतमीज लड़की है ये कछ शर्म लिहाज है या नहीं इसे, दुकान पर हंगामा देख राहुल बाहर से भाग कर अंदर आया और अंदर आते ही अंकल जी के पर छू कर बोले मामा जी आप यहां?

मैं  घबरा के दुकान से बाहर निकाल आई एक लंबा घुगंट कर के गाड़ी में बैठ गई। राहुल बाहर आया और गाड़ी में बैठ कर गाड़ी बहुत तेज चलाने लगा। मैने धीमी आवाज में बोला गाड़ी बहुत तेज चला रहे हो कहीं ऐक्सिडेंट ना हो जाए।।

हम घर पहुंचे ही थे तभी माँ जी जोर-जोर से चिलाते  हुए बाहर आयी देखो आ गई ये रानी साहिबा खानदान कि इज्जत मिटी में मिलाकर, तभी रजनी दीदी आई ओर बोली माँ जी मेरे शादी को 6 साल हो गए है मैं अभी तक मामा जी को नहीं जानती ये कैसे जानेगी।।

माँ जी  जोर से चिलाई  देखो कैसे चपड़ चपड़ जवान चल रही है इस रजनी की कभी 

राहुल सब की बात काट ते हुए बोले की माँ  ये दोनों सही बोल रही है अगर ये हमेशा घूंगट कर के रहती है तो ये मामा जी को कैसे पहचानेगी ?

और माँ आज मामा जी के फोन पर तुमने पूरे घर की शांति को भंग कर दिया है ये वो ही समाज है जिसने सीता मैया पर भी उंगली उठाई थी पिता जी ओर जेठ जी ने भी अपना पक्ष राहुल के साथ ही रखा।। 

माँ जी थोड़ी देर सोचने के बाद वापस रजनी दीदी और  मेरे पास आई और बोली की तुम दोनों को अपनी मर्यादा पता है मुझे उम्मीद है कि तुम कभी भी मेरा सिर शर्म से नीचे नहीं  झुकने दोगी।।

हम एक ही परिवार के सदस्य है हमे हमेशा साथ रहना है अच्छा वक्त हो या बुरा वक्त हर सदस्य को अपनी मर्यादा पता है।। माँ जी ने मुझे और  रजनी दीदी को गले लगा लिया ।।

दोस्तों अगर hindi story “Saas bahu ki kahani ” आपको अच्छी लगी, तो शेयर ज़रूर कीजिएगा। 

# ये भी देखें  : Bollywood Style Saree Online Shopping

bollywood replica sarees online shopping
bollywood replica sarees online shopping

इसे भी पढ़ें :

मुक्ति चुड़ैल की – Bhoot chudail – Ghost real story in hindi

गरीब बुढ़िया की खीर का जादू – Jadu ki Kahani – Magic Story in Hindi

महामूर्ख दोस्तों का जादू – Jadu ki Kahani – Magic Story in Hindi

जादुई पत्तियों का पेड़ और लालची कलंदर – Jadui Kahani in Hindi

jadui kahaniya – राजा की मुछों का जादू। Moral story in hindi 2020


by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

हमें पूरी उम्मीद है कि आपको हमारी आज की हिंदी कहानी “ घूंघट  ghoonghat ” पसंद आएगी। आप को यह short hindi story कैसे लगी हमे comment करके ज़रूर बताएं। अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी हो तो आप इस कहानी को share जरुर करें और ऐसी जादू की कहानियाँ, inspirational story, हिंदी कविता इत्यादि पढना चाहते हैं, तो हमें follow ज़रूर कीजिये।

धन्यवाद! 

Credit:- Kahani Nation

“घूंघट – Ghoonghat – Interesting story in hindi – Saas bahu ki kahani” पर 1 विचार

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.