अब बस बहुत हुआ – A poem on dharm in hindi – All religions are equal

shaheen bagh

मुस्लिम हिन्दू अब बंद करो,
राजनीति बहुत हुई अब बंद करो,
हर कोम का खून लाल है, इसे बहाना अब बंद करो।

एक पढ़ता है कुरान,
एक पढ़ता है गीता।
फिर क्यों आपस में लड़ रहे है,
वोट बैंक का खाता भर रहे है,

hindu muslim unity
all religions are equal

एक बार नफरत का परदा हटाओ,
शांति का रास्ता अपनाओ।
सामने तुम्हे अपने जैसा है इंसान दिखेगा,
एक बार उसे गले तो लगाओ,
दिल में उसके भी हिंदुस्तान बसा है।

हिन्दू,मुस्लिम,सिख,ईसाई सब है भाई भाई।
दिल से दिल जब मिलेगा,
अपने मान को जो सुकून मिलेगा।
हिंदुस्तान का नाम रोशन होगा,
देश से गरीबी हटाओ,
देश को उन्नति पर लाओ।


ये भी पढ़ें:-

1)   ज़िन्दगी एक किताब है। ( hindi kavita )

2) क्यों कहते है – “जय माता दी”? नारी की आवाज! (hindi kavita)


A hindu muslim unity poem by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer
दोस्तों अगर कविता दिल को छू जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। 

Image credits:  www.freepik.com

इस कविता के द्वारा लेखक ने  hindu muslim unity , hindu muslim unity shayari , shaheen bagh , all religions are equal के उपरे टिपण्णी की है। ताकि भारत में एकता बनी रहे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.