Pregnant Elephant – हैवानियत की हद: गर्भवती हथिनी को दी खाना मांगने की सज़ा

pregnant elephant

Pregnant Elephant जिसे बहुत ही हैवानियत की तरह कुछ लोगों से मार डाला। दोस्तों, आपने बहुत हिंदी कविताएँ पढ़ी होगी, लेकिन आज की हमारी कविता उस गर्भवती हथिनी (Pregnant Elephant) के ऊपर है जिसे केरल (Kerala) के मल्लापुरम के लोगो ने अनानास में पटाखे (Cracker-Filled pineapple) खिलाकर मार डाला है।

 

इंसान नहीं हम

जानवरों से बड़े जानवर है

इंसानियत की बात करते है

हम दरिद्रता से भरे

कैसे उस बेजुबान को

वो फल का बम खिलाया होगा

कैसे उस माँ का दिल दहलाया होगा

एक बार उस बच्चे की सोचो

जिसने माँ के अंदर ही अपनी

आखिरी सांस ली होगी

 

उस बेजुबान जानवर का क्या कसूर था

खाने के लिए भरोसा करना ही

तो उसका गुन्हा था

 

फल के टुकड़ों में

मौत खिलाई

नन्ही सी जान चकित थी

आंसुओं से पूछती होगी वो मां

 

मुझे क्यों मारा

यह इंसानियत तो शायद मेरी मित्र थी

लहू से भरी नन्ही सी जान को लेकर

वो पानी में बिखर गई

 

मुंह के छालों में जलन कम

सवाल ज्यादा थे उसके

 

देखो पीछे लाखों सवाल वह छोड़ गई

मुबारक हो इंसानों

वो हमारी बेरुखी का शिकार हो गई

 

देखो वो बेजुबान भगवान को प्यारी हो गई

अगर जानवर, जानवर की तरह रहे तो

इंसान की कोई इंसानियत नहीं

 

और सब कुछ भूल फिर कोई

बेजुबान

इंसानों का शिकार होगा

ओर फिर इंसानियत ख़त्म हो

दरिद्रता जागेगी।।

 

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजिएगा।

 


# नई जानकारी के लिए Lifewingz Facebook Page को फॉलो करें


 

ये भी पढ़ें:-

1) मजबूर है वो क्योकि मजदूर है वो – Sad Poem in Hindi
2) झाँसी की रानी कविता – सुभद्रा कुमारी चौहान
3) तू जरा सब्र तो रख! Inspirational Poem In Hindi
4) चेहरे पर चेहरा लगाए घूम रहा है आदमी – Sad poem
5) चलो सब इंसान बन जाएँ। Hindi mein kavita

 

by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

 

“Pregnant Elephant – हैवानियत की हद: गर्भवती हथिनी को दी खाना मांगने की सज़ा” आपको यह हिंदी कविता कैसी लगी हमे अपने कमेन्ट के माध्यम से जरूर बताये क्योंकि आपका हर एक Comment हमें और बेहतर लिखने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

धन्यवाद!

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.