ओ री नन्ही सी चिड़िया ! Sparrow Poem in Hindi

sparrow in hindi

दोस्तों, आज की हमारी यह कविता “ओ री नन्ही सी चिड़िया” poem on sparrow bird ( sparrow in hindi ) में कवि ने नन्ही सी चिड़िया से दोस्ती करना चाही है,और हम सब को एक सिख दी है कि हमे भी ( hindi poems on nature ) पशु-पक्षियों और nature से दोस्ती करनी चाहिए ! ताकि हम कही भी जाएँ हमारे यह दोस्त हमेशा हमारे साथ रहें !

पेड़ों पर कूदती 

फुर-फुर कर उड़ जाती,

कभी पानी में नहाती

कभी दाना चुगजाती,

पंख फैला कर फिर आसमान में उड़ जाती

ओ री चिड़ियां?

क्यों तुम मुझसे डरती हो

पास मेरे भी आकर बैठो,

थोड़ा दाना मेरे हाथ से खालों

साथ बैठ कर कुछ गाप-शाप करते है,

 

मस्त मौला पवन में उड़ कर

ओ री चिड़ियां?

पंख फैला 

जब तुम धूप में सोया करती हो,

रंग बिरंगे पंख देख कर

मन मेरा खुशी से झूम उठता,

अंडे को सेह कर

तुम नए पक्षी 

हम को देती हो?

शुक्रिया करू मैं तुम्हारा

तुम हमारे जीवन में नए रंग भर देती हो !

दोस्तों ! कविता अगर दिल को छूह जाये, तो शेयर ज़रूर कीजियेगा। 

ये भी पढ़ें:-

1)  ज़िन्दगी एक किताब है। ( hindi kavita )

2)  मेरे पिता पर सुन्दर कविता – मेरे पिता मेरा अभिमान !

3)  बेगाना अपना कहलाएगा – poem in hindi on life & relationships          

4)  समय ( Samay ) – Importance of Time ( Hindi Poem )     


by Shubhi Gupta ( शुभी गुप्ता )
Story and Poem Writer

दोस्तों, आपको हमारा यह article अच्छा लगा हो, तो इस blog post को अधिक से अधिक share कीजिये और आप नीचे दिए गए comment box पर हमे comment भी कर के बता सकते है कि आपको यह poem कैसी लगी! इसके इलावा दोस्तों यदि आप Hindi में कोई भी article, motivational story, quotes, thoughts, inspirational story या inspire poem इत्यादि कुछ भी हिन्दी में पढना चाहते हैं, तो हमें subscribe ज़रूर कीजिये, और अगर आपके पास कोई अच्छी जानकारी है तो हमारे साथ share जरूर कीजिए!

धन्यवाद!

image credit – pixabay.com

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.